287 विधायकों ने ली शपथ

Fadanvis Sule
मुंबई
बीते एक महीने पहले राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में जीते हुए नवनिर्वाचित सदस्यों के शपथ के लिए बुधवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने एक दिन का विशेष सत्र  बुलाया। सुबह आठ बजे से शुरू होने वाला विधायकों के शपथविधि कार्यक्रम में कुल 287 नवनिर्वाचित विधायकों ने गोपनीयता की शपथ ली। भाजपा के वरिष्ठ नेता सुधीर मुनगंटीवार  ही शपथ नहीं ले पाए हैं। महाराष्ट्र की 14वीं विधानसभा के लिए चुने गए 288 विधायकों को शपथ दिलाने के लिए मंगलवार को राज्यपाल कोश्यारी ने भाजपा के वरिष्ठ विधायक  कालिदास कोलंबकर को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया था, जिन्होंने सभी नवनिर्वाचित विधायकों को विधानसभा सदस्यता की शपथ दिलाई। विधानसभा के सचिव राजेंद्र भागवत ने  बताया कि दो सदस्यों महेश बालदी (निर्दलीय), मोहम्मद इस्माइल (एआईएमआईएम) को विधानसभा अध्यक्ष के चैंबर में शपथ दिलाई गई, क्योंकि वे सदन स्थगित होने के बाद  पहुंचे थे। विधानसभा में प्रोटेम स्पीकर कालिदास कोलंबकर ने भाजपा के विधायक बबनराव पचपुते, विजयकुमार गवित और राधाकृष्ण विखे पाटिल को सदस्यों को शपथ दिलाने के  लिए पीठासीन अधिकारी नियुक्त किया गया था ।

प्रोटेम स्पीकर कालीदास कोलंबकर ने सदस्यों को दिलाई शपथ
विधानसभा में चुनकर आने वाले सदस्यों को वरिष्ठता के आधार पर शपथ दिलाई गई, इसमे सबसे वरिष्ठ भाजपा के विधायक बबनराव पाचपुते ने सदस्यता की शपथ ली, उसके  बाद पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के बाद राकांपा के विधायक अजित पवार, छगन भुजबल, कांग्रेस नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण, पृथ्वीराज चव्हाण, पूर्व विधानसभा  अध्यक्ष दिलीप वलसे पाटिल (राकांपा) तथा हरीभाऊ बागड़े (भाजपा) पहले शपथ लेने वालों सदस्यों में शामिल रहे। इसके अलावा ठाकरे परिवार से पहली बार वर्ली विधानसभा क्षेत्र से जीतकर आने वाले युवासेना प्रमुख आदित्य ठाकरे ने विधानभवन में सदस्यता की शपथ ली, जिसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस सहित सभी विधायकों ने ठाकरे को बधाई दी।  बुधवार को राज्य के कई ऐसे विधायकों ने सदस्यता की शपथ ली जो दिग्गज नेताओं के बेटे हैं या पोते। इसमे ठाकरे परिवार से पहली बार चुनाव लड़ने वाले स्व. बालासाहेब ठाकरे  के पोते और उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे, इसके अलावा राकांपा प्रमुख शरद पवार के पोते रोहित पवार और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस के दिग्गज नेता स्व. विलासराव  देशमुख के बेटे धीरज देशमुख ने पहली बार शपथ ली।

सुप्रिया सुले ने देवेंद्र फड़नवीस, अजित पवार, आदित्य ठाकरे सहित सभी विधायकों का किया स्वागत
बुधवार को विधानभवन में सदस्यता की शपथ लेने पहुंचे नवनिर्वाचित विधायकों का विधानसभा प्रवेश द्वार पर राकांपा की नेता और सांसद सुप्रिया सुले ने स्वागत किया। इसमें  सबसे बड़ी बात यह रही कि चार-पांच दिन पहले राकांपा से बगावत कर भाजपा का समर्थन करने वाले अजित पवार के विधानभवन में पहुंचने के बाद सुप्रिया सुले ने उन्हें गले लगाकर स्वागत किया। वहीं रोहित पवार ने भी शपथ लेने से पहले सुप्रिया सुले का पैर छूकर आशीर्वाद लिया। राज्य के कार्यवाहक मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के विधानसभा पहुंचने के  बाद प्रवेश द्वार पर सांसद सुप्रिया सुले ने उनका भी अभिवादन किया, जिसके जबाब में फड़नवीस ने भी उनका अभिवादन किया। इसके अलावा युवासेना प्रमुख आदित्य ठाकरे सहित  सभी नवनिर्वाचित सदस्यों का सुले ने स्वागत किया। इसके बाद पत्रकारों से बातचीत में सुप्रिया सुले ने कहा कि यह दिन अपने साथ बड़ी जिम्मेदारी लाया है।

30 नवंबर को हो सकता है विधानसभा अध्यक्ष पद का चुनाव
बता दें कि विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के एक महीने बाद भी नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ नहीं दिलाया गया था। किसी भी राजनीतिक दल के सरकार न बना पाने के कारण  राज्य में 12 नवंबर से 23 नवंबर तक राष्ट्रपति शासन लागू रहा। उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को राज्यपाल कोश्यारी से प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने और मौजूदा सरकार को  बुधवार की शाम पांच बजे तक बहुमत साबित करने को कहा था, जिसके बाद राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने यह कहते हुए अपना इस्तीफा दे दिया कि उनके पास बहुमत  नहीं है। वहीं बुधवार को विधायकों की शपथग्रहण कार्यक्रम की जानकरी देते हुए विधानसभा के सचिव भागवत ने बताया कि मंत्रिमंडल की बैठक के बाद अध्यक्ष के चुनाव के लिए  तारीख पर फैसला लिया जाएगा। गुरुवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने के बाद मंत्रिमंडल की बैठक होगी। बहरहाल, कांग्रेस में सूत्रों ने बताया कि अध्यक्ष पद के लिए चुनाव 30 नवंबर को होगा।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget