आतंक के खिलाफ भारत-श्रीलंका साथ-साथ : मोदी

Modi Rajpakshe
नई दिल्ली
श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने भारत दौरे पर पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने साझा प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि आतंकवाद के खिलाफ  जंग में भारत का श्रीलंका को अटल समर्थन है। पीएम मोदी ने कहा कि यह स्वाभाविक है कि हम एक-दूसरे की सुरक्षा और चिंताओं को लेकर संवेदनशील रहें। उन्होंने कहा कि भारत   ने हमेशा आतंकवाद का विरोध किया है। इसके लिए हमेशा अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से कार्रवाई की अपेक्षा की है। इस साल ईस्टर के मौके पर आतंकियों ने पूरी मानवता पर बर्बर हमला  किया। आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत का सहयोग व्यक्त करने के लिए मैं श्रीलंका गया था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि दोनों देशों के बीच वार्ता फलदायक रही। साथ ही  उन्होंने आतंकवाद से निपटने के लिए उनके साथ 5 करोड़ डॉलर का समझौता करने का भी ऐलान किया। उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए सम्मान की बात है कि पदभार संभालने के  बाद राष्ट्रपति राजपक्षे ने अपनी पहली विदेश यात्रा के लिए भारत को चुना। उन्होंने कहा कि स्थिर श्रीलंका न केवल भारत के लिए, बल्कि पूरे हिंद महासागर क्षेत्र के हित में है। मैंने  श्रीलंकाई राष्ट्रपति को आश्वासन दिया है कि भारत की शुभेच्छा और सहयोग हमेशा श्रीलंका के साथ है। मोदी ने कहा कि भारत की 40 करोड़ अमेरिकी डॉलर की ऋण सुविधा  श्रीलंका के विकास को आगे बढ़ाएगी। मोदी ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि नई सरकार श्रीलंका में तमिल समुदाय की आकांक्षाओं को पूरा करेगी। वहीं गोटबाया ने मुलाकात के बाद  कहा हमारी बातचीत फलदायक रही। बातचीत का केन्द्र सुरक्षा सहयोग रहा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के साथ मेरी बातचीत में आर्थिक सहयोग पर भी चर्चा हुई। इसके साथ  ही पीएम मोदी ने तमिल समुदाय का मुद्दा उठाते हुए कहा कि उम्मीद है कि गोटबाया तमिलों के सशक्तीकरण के लिए भी काम करेंगे। मीटिंग के दौरान श्रीलंका की ओर से गिरक्तार  भारतीय मछुआरों को लेकर भी चर्चा हुई। श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने हिरासत में ली गई मछुआरों की नावों को रिलीज करने का ऐलान किया है। पीएम मोदी ने कहा  कि भारत के पुलिस संस्थानों में श्रीलंका के अधिकारी पहले ही काउंटर टेररिज्म की ट्रेनिंग ले रहे हैं। मुझे विश्वास है कि श्रीलंका सरकार तमिलों की समानता, विकास और सम्मान  के लिए प्रक्रिया को आगे बढ़ाएगी। उत्तर और पूर्व सहित पूरे श्रीलंका में भारत एक विश्वसनीय भागीदार बनेगा। इसके साथ ही पीएम मोदी ने श्रीलंका की अर्थव्यवस्था को मजबूती  देने के लिए 400 मिलियन डॉलर तक की लाइन ऑफ क्रेडिट की बात कही।

हम राजपक्षे के साथ काम करने को उत्सुक
पीएम मोदी ने कहा कि दोनों देशों की प्रगति, शांति सुरक्षा के लिए हम राष्ट्रपति राजपक्षे के साथ काम करने को उत्सुक हैं। आपको मिला जनादेश श्रीलंका के बेहतर भविष्य को तय  करेगा। दोनों देशों के मजबूत संबंधों का आधार सांस्कृति, ऐतिहासिक और नस्लीय है। दोनों देशों की सुरक्षा और विकास अविभाज्य हैं। हमने निर्णय लिया है कि दोनों देशों के बीच  बहुमुखी साझेदारी को मजबूत करेंगे। हमें विश्वास है कि इससे दोनों देशों को मजबूती मिलेगी। पीएम मोदी के बाद श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने कहा कि पीएम मोदी और  मेरे बीच कई अहम मुद्दों पर बात हुई। दोनों देशों की सुरक्षा को प्राथमिकता देने पर बात हुई है। उन्होंने कहा कि इंटेलिजेंस की क्षमता को मजबूत करने के लिए भारत हमेशा से  श्रीलंका को मदद करता रहा है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget