लागत से कम दाम पर सामान बेचा तो ई-कॉमर्स कंपनियों पर होगी कार्रवाइ

नई दिल्ली
ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म की ओर से लागत से कम दाम पर सामान बेचने की शिकायतों के बीच कॉमर्स और वाणिज्य मंत्रालय भी सक्रिय हो चुका है। वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने ई- कॉमर्स कंपनियों को चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि उनके प्लेटफॉर्म पर प्रीडेटरी प्राइसिंग यानी लागत से कम दाम पर सामान बेचा गया तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। वाणिज्य  मंत्री पीयूष गोयल ने इसी सप्ताह अमेजन इंडिया के हेड पीयूष गोयल के साथ बैठक में प्रीडेटरी प्राइसिंग का मुद्दा उठाया है। इस मामले से वाकिफ एक अधिकारी के हवाले से प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि पीयूष गोयल ने सभी ई-कॉमर्स कंपनियों से प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के नियमों का पालन करने को कहा है। साथ ही ई-कॉमर्स  कंपनियों से प्रीडेटरी प्राइसिंग को बंद करने को कहा गया है। प्रीडेटरी प्राइसिंग यानी लागत से कम दाम पर सामान बेचने को लेकर अमेजन पर लगे आरोप नए नहीं हैं। अमेजन के  खिलाफ प्रीडेटरी प्राइसिंग को लेकर अमेरिका और यूरोपीय संघ में जांच चल रही है। अमेरिका इस बात की जांच भी कर रहा है कि एक ही सामान पर बाहरी दुकानदार के मामले में  अमेजन को बढ़त हासिल है। हालांकि, अमेजन समेत सभी ई-कॉमर्स कंपनियां बार-बार कह रही हैं कि वे भारत में ग्राहकों को छूट नहीं दे रही हैं। कंपनियों का कहना है कि ग्राहकों  को सीधे सामान बेचने वाले छूट दे रहे हैं। फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने अमेजन और फ्लिपकार्ट पर लागत से भी कम दाम पर सामान बेचने का आरोप लगाया है। साथ ही कैट ने ई-कॉमर्स कंपनियों पर एफडीआई की शर्तों का उल्लंघन करने का भी आरोप लगाया है। इस संबंध में कैट ने वाणिज्य मंत्रालय और पीएमओ से कार्रवाई करने की गुहार  लगाई है। कैट की शिकायत के बाद डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन एंड इंटरनल ट्रेड (डीपीआईआईटी) एफडीआई नियमों के उल्लंघन की जांच कर रहा है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget