औषधीय गुणों से भरपूर दालचीनी

दालचीनी का प्रयोग गर्म मसाले और अन्य कई मसालों में बखूबी किया जाता है। दालचीनी पाउडर के मिश्रण से खाने का स्वाद भी अच्छा होता है और हमारे कई छोटे छोटे रोग भी  कम करता है। सर्दी- जुकाम, पेट की कई बीमारियों में इसका सेवन लाभप्रद होता है। आइए जानें इसकी खूबियां और इस्तेमाल के बारे में:-

लाभप्रद है सर्दी जुकाम में इसका सेवन
जुकाम, हल्का बुखार होने पर तुलसी के पत्तों के साथ दालचीनी पाउडर मिला कर चाय पीने से लाभ मिलता है, पुरानी खांसी, जुकाम होने पर एक चम्मच शहद में एक चौथाई  चम्मच दालचीनी पाउडर मिला कर दिन में दो तीन बार लेने से आराम मिलता है। इसके अतिरिक्त 1 कप गर्म पानी में 1/2 चम्मच अदरक, 1/4 चम्मच लौंग और 1/4 चम्मच  दालचीनी पाउडर डाल कर कुछ दिनों तक नियमित लेने से आराम मिलता है।

जोड़ों के दर्द में भी देता है राहत
जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए एक चम्मच दालचीनी पाउडर में थोड़ा पानी, जितना पानी उसका 1/3 शहद मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बनाएं और दर्द वाले स्थान पर लगाएं। आराम  मिलेगा। दिन में दो बार एक चम्मच शहद में एक चौथाई चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाएं और उसे खा लें। कुछ दिन तक इसका सेवन करें, आराम मिलेगा।

याददाश्त बढ़ाती है और मानसिक तनाव दूर करती है
एक चम्मच शहद में एक चुटकी दालचीनी पाउडर नियमित प्रात: खाली पेट और रात्रि में सोने से पहले खाने से मानसिक तनाव में राहत मिलती है और याददाश्त बढ़ती है।

पेट संबंधी विकार होते हैं कम
दालचीनी में मौजूद  मिनरल मैंगनीज, फाइबर और एसेंशियल ऑयल होने के कारण पेट संबंधी विकारों से राहत दिलाने में मदद मिलती है। अगर पेट खराब है, दस्त लगे हैं तो दिन   में दो बार पानी के साथ 3 ग्राम दालचीनी पाउडर लें। इसके अतिरिक्त दालचीनी, अदरक, जीरे का पाउडर बराबर मात्रा में एक चम्मच टोटल बना लें और शहद के साथ दिन में दो से  तीन बार लेने से आराम मिलता है।

त्वचा के लिए
एग्जिमा और दाद के इलाज के लिए शहद में दालचीनी पाउडर बराबर मात्रा में मिला कर पेस्ट बनाएं और प्रभावित स्थान पर लगाएं। अगर त्वचा पर ब्लैक हेड्स और मुंहासे हैं तो  नींबू के रस में दालचीनी पाउडर मिला कर लगाएं।

उम्र के प्रभाव को करती है कम
एक कप चीनी में दो बड़े चम्मच जैतून का तेल, आधा कप दूध, दो चम्मच दालचीनी पाउडर मिला कर उस मिश्रण को सारे शरीर पर लगाएं और 5 मिनट तक लगाए रखें, फिर नहा  लें। त्वचा चमक उठेगी साथ ही सप्ताह में एक बार करने से त्वचा जवां भी दिखेगी।

सावधानी
दालचीनी की प्रकृति गर्म होती है इसलिए इसका सेवन सीमित मात्रा में करें। पेट की जटिल समस्या होने पर इसका प्रयोग न करें। त्वचा पर खुजली, जलन, लाल दाने होने पर  दालचीनी के लेप का का प्रयोग न करें।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget