मजबूत विपक्ष की भूमिका में काम करेगी भाजपा

मुंबई
राज्य में राजनीतिक उठापटक के बीच मंगलवार को भाजपा ने विधायकों की बैठक बुलाई, जिसमें पार्टी की अगली रणनीति को लेकर चर्चा की गई। मरीन लाइंस स्थित गरवारे क्लब   में देर शाम हुई भाजपा विधायकों की बैठक में कार्यवाहक मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल, केंद्रीय राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे पाटिल, राष्ट्रीय सहसंगठन  मंत्री वी. सतीश, पूर्व मंत्री विनोद तावड़े, पूर्व विधायक राज पुरोहित सहित सभी विधायक उपस्थित थे। बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए पूर्व मंत्री आशीष शेलार ने बताया  कि  मंगलवार की शाम पार्टी के सभी विधायकों की बैठक बुलाई गई, जिसमें प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने बैठक को संबोधित किया। साथ ही बैठक में कार्यवाहक मुख्यमंत्री देवेंद्र  फड़नवीस के नेतृत्व पर काम करने का प्रस्ताव रखा गया, जिसे सभी विधायकों ने सर्वसम्मति से पास किया। शेलार ने कहा कि भाजपा के विधायकों से कहा गया है कि वो एक  सक्षम विपक्ष की भूमिका में काम करें। राज्य की गरीब जनता, वंचित और पीड़ितों की समस्याओं का मुद्दा उठाने का काम भाजपा करेगी। शेलार ने कहा कि राज्य में महाविकास  आघाड़ी सरकार बनने जा रही है, जिसके लिए मैं उन्हें बधाई देता हूं। साथ में महाविकास आघाड़ी के मुख्यमंत्री बनने वाले शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे को भी शुभेच्छा। बता दें  कि बीते 24 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव के बाद राज्य के नई सरकार बनाने को लेकर चल रही चर्चा के बीच बीते शनिवार को राकांपा के विधायक दल के नेता अजित पवार के   समर्थन से भाजपा ने सरकार बनाई थी, लेकिन मंगलवार को सर्वोच्च न्यायालय के बहुमत साबित करने के आदेश के बाद अजित पवार के पास बहुमत न होने के कारण देवेंद्र  फड़नवीस ने मुख्यमंत्री और अजित पवार ने उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। इस्तीफा देने के बाद कार्यकारी मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस की अध्यक्षता में भाजपा विधायकों की  बैठक बुलाई गई जिसमें विधायकों को बताया गया कि हम सरकार बनाने के बाद बहुमत सिद्ध नहीं कर पाए इसलिए हम मजबूती के साथ विपक्ष में बैठेंगे।

'तीन पहिए की सरकार'  ज्यादा दिन नहीं चलेगी : फड़नवीस
मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस गठबंधन पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि तीन पहियों वाली सरकार ज्यादा दिन नहीं टिकेगी क्योंकि सभी पहियों  की दिशाएं अलग-अलग होंगी, उनकी विचारधाराएं अलग-अलग हैं। इस्तीफे का ऐलान करने से पहले फड़नवीस ने सूबे में अस्थिरता का ठीकरा शिवसेना पर फोड़ा। उन्होंने कहा कि  हमने साथ मिलकर चुनाव लड़ा और बहुमत हासिल किया था और हमें जनता ने 105 सीटें देकर ज्यादा समर्थन दिया।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget