गड्ढे दिखाओ, पैसे कमाओ योजना का आज आखिरी दिन

Road Pits
मुंबई
मनपा प्रशासन द्वारा सात दिन के लिए शुरू की गई गड्ढे दिखाओ, पैसा कमाओ स्कीम का आज आखिरी दिन है। सड़कों पर बने गड्ढों की फोटो निकाल कर मनपा की वेबसाइट पर  भेजनी है। चौबीस घंटे में गड्ढे नहीं भरे गए तो मनपा से 500 रुपए मिलेगा। फिलहाल दो दिन पूर्व तक 85 लोग पैसा लेने के हकदार बन गए हैं, लेकिन इन लोगो में से किसी ने  भी पैसे के लिए मनपा से अभी तक गुहार नहीं लगाई है। उल्लेखनीय है कि मनपा प्रशासन ने खस्ताहाल सड़कों का तुरंत निपटारा करने के लिए एक नई स्कीम बनाई। जिसके लिए  सड़कों पर बने गड्ढों की तत्काल शिकायत की जाए। शिकायत किए गए गड्ढों को चौबीस घंटे के भीतर भरने का भी मनपा ने लक्ष्य रखा। चौबीस घंटे में गड्ढे नहीं भरे गए तो   जिस मनपा अधिकारी के क्षेत्र में गड्ढे होंगे उसे 500 रुपए देने होंगे। वह भी उसकी खुद की जेब से। मनपा आयुक्त ने सभी उपायुक्तों की बैठक लेकर निर्देश दिया था कि सड़क पर   बने सभी गड्ढों को तत्काल भरा जाए अन्यथा अधिकारी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहें। मनपा प्रशासन ने सड़क पर बने गड्ढों को भरने और सड़कें तत्काल सुंदर और   चकाचक बनने के लिए यह तरीका अपनाया। बुधवार को स्थाई समिति में मनपा विरोधी पक्ष नेता रविराजा ने सड़कों पर बने गड्ढों को लेकर पैसा कौन देगा, इस पर सवाल खड़ा  किया था। जिसके जवाब में मनपा रोड विभाग के प्रमुख अधिकारी संजय दराडे ने बताया कि पिछले छह दिन में कुल 1670 गडढों की शिकायतें आई हैं। जिनमें से 1204 गड्ढों को   भरने के लिए प्लान किया गया और 1155 गड्ढों को अटेंड किया गया और 1148 गड्ढों को भर भी दिया गया। बाकी गड्ढों को चौबीस घंटे में भरने के लिए कार्रवाई की जा रही है।  मनपा सड़क विभाग के मुख्य अभियंता संजय दराडे ने बताया कि गड्ढों को लेकर जो शिकायतें सामने आई थीं उनमें से 91 प्रतिशत गड्ढों को चौबीस घंटे में ही भर दिया गया।  बाकी नौ प्रतिशत गड्ढे भरने में किसी कारण से देर हुई। उन्होंने यह भी बताया कि जो नौ प्रतिशत गड्ढे नहीं भरे गए, उसको लेकर अभी तक कोई पैसे को लेकर मांग नहीं की है।  उन्होंने कहा कि गुरुवार को आखिरी दिन है। पैसे देना ही मुख्य उद्देश्य नहीं था, सड़कों को सुधारने के लिए लोगों का सहभाग होना जरूरी था। अब जो पैसों के लिए आएगा, जिस  अधिकारी के क्षेत्र में होगा उस अधिकारी के वेतन से पैसा काटकर शिकायतकर्ता को दिया जाएगा।

चार इंजीनियर करेंगे गड्ढों का निरीक्षण
गड्ढों की शिकायतों का निपटारा हुआ या नहीं, इसके लिए मनपा ने चार इंजीनियरों को नियुक्त किया है। इंजीनियर प्रत्येक शिकायतकर्ता को फोन कर उससे जानकारी लेंगे कि  उनके द्वारा की गई शिकायत वाले गड्ढों को भरा गया या नहीं और यदि गड्ढे भरे गए हैं तो वह उस कार्य से संतुष्ट है या नहीं।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget