अब 'राम भरोसे' अदालतों की सुरक्षा!

Court
नई दिल्ली
दिल्ली की अदालतों की सुरक्षा राम भरोसे है। पुलिस ने अनाधिकारिक तौर पर स्टाफ को वापस बुला लिया है। ऐसा कोई काम पुलिस नहीं कर रही, जिससे उसे अदालत जाना पड़े या   वकीलों से आमना-सामना हो। पुलिस सूत्रों का कहना है कि यह जरूरी था कि वकीलों को पुलिस की अहमियत पता चले। वहीं दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस के मुख्यालय की सुरक्षा बढ़ा  दी गई है। वहां पर सीआरपीएफ की तैनाती की गई है। हालांकि दिल्ली पुलिस के एडिशनल पीआरओ अनिल मित्तल ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं किया गया है। अदालत में पुलिस की   पूरी सुरक्षा है।
पुलिस ने आत्म सम्मान वाला बल है और अपना काम कर रही है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि अब तक दिल्ली की सभी अदालतों में पुलिस की सुरक्षा पुलिस ही करती थी। कोर्ट में   घुसने पर चेकिंग से लेकर पूरे कोर्ट की निगरानी का काम पुलिस के जिम्मे है, लेकिन अब पुलिस ने कोर्ट की सिक्युरिटी से अपना हाथ खींच लिया है। सुरक्षा हटाने से पहले अपने-  अपने संबंधित न्यायाधीश को पूरी जानकारी दी गई थी। दिल्ली पुलिस हेडक्वॉर्टर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है और वहां पर सीआरपीएफ के जवानों को तैनात किया गया है। बता दें कि  दो नवंबर को तीस हजारी कोर्ट में उपजे विवाद को लेकर पुलिसकर्मियों ने पुलिस हेडक्वॉर्टर के बाहर प्रदर्शन किया था। साकेत, कड़कड़डूमा, रोहिणी सहित अन्य सभी जिला अदालतों  में लगभग ऐसे हालात हैं। अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार को पुलिस हेडक्वॉर्टर पर हुए प्रदर्शन में पुलिसकर्मियों की यह मांग थी, जिस पर विचार करने के लिए कहा गया था   और बुधवार सुबह से ही अधिकारियों ने इस पर मुहर लगा दी है। हालांकि आधिकारिक तौर पर पुलिस ऐसा होने से इंकार कर रही है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि लगातार कोर्ट में  पुलिसकर्मियों के साथ बदसलूकी हुई थी। ऐसे में पुलिस का वहां काम करना मुश्किल हो गया।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget