सियासी खींचतान की भेंट न चढ़ जाए यूपी विधानमंडल का विशेष सत्र

लखनऊ
  गांधी जयंती पर विधानमंडल के 36 घंटे के विशेष सत्र से विपक्ष ने पूरी तरह किनारा कर लिया था। अब संविधान दिवस पर मंगलवार को होने जा रहे विधानमंडल एक दिवसीय विशेष सत्र पर  भी सियासी खींचतान शुरू हो गई है। कांग्रेस और बसपा तो सर्वदलीय बैठक में किए गए वादे पर कायम हैं, लेकिन सपा ने उसी दिन बड़े प्रदर्शन का एलान कर सदन के बहिष्कार का इशारा कर  दिया है। हालांकि अंतिम निर्णय सोमवार को विधानमंडल दल की बैठक में किया जाएगा।
संविधान दिवस पर संविधान की उद्देशिका और उसमें निहित मूल कर्तव्यों के संबंध में चर्चा के लिए विशेष सत्र आहूत किया गया है, जिसके लिए पिछले दिनों विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण  दीक्षित ने सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। उसमें सभी दल नेताओं ने सहयोग का आश्वासन दिया। मगर अब सपा की रणनीति कुछ बदली नजर आ रही है। सपा ने कहा है कि सरकारी और निजी  शिक्षण संस्थानों में नि:शुल्क प्रवेश की व्यवस्था खत्म कर सरकार ने इन छात्रों को उच्च शिक्षा और रोजी-रोटी से वंचित करने की साजिश रची है। इस फैसले की वापसी के लिए मंगलवार को  पार्टी बड़ा प्रदर्शन करेगी। चूंकि उसी दिन विशेष सत्र है, ऐसे में माना जा रहा है कि सपा इसका बहिष्कार कर सकती है। हालांकि इस पर अंतिम निर्णय के लिए सोमवार को विधानमंडल दल की  बैठक पार्टी मुयालय में होनी है। यदि सपा सत्र से बाहर रहती है तो इसका असर विशेष सत्र पर नजर आएगा। 

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget