मनपा की प्रॉपर्टी टैक्स मे कमाई घटी

मुंबई
आर्थिक मंदी की मार मुंबई महानगर पालिका पर भी जोर का पड़ा है। मनपा की कमाई का मुख्य श्रोत प्रॉपर्टी टैक्स में होने वाली कमाई इस कदर घटी है कि मनपा के लिए चिंता   का विषय हो गई है। पिछले दस महीने में मात्र 15 प्रतिशत कमाई हुई है, जबकि अभी तक कम से कम 35 से 40 प्रतिशत कमाई हो जानी चाहिए थी। उल्लेखनीय है कि देश की  आर्थिक राजधानी कही जाने वाली मुंबई महानगर पालिका का बजट लगभग 35 हजार करोड़ के करीब है, जो कि देश के कई राज्यों के कुल बजट से अधिक है। मनपा की कमाई का  श्रोत पहले चुंगी था, जिसे बंद कर जीएसटी लागू किया गया। जीएसटी से मनपा को मात्र पांच साल का ही पैसा राज्य सरकार से मिलेगा। चुंगी बंद होने के बाद अब प्रॉपर्टी टैक्स से  होने वाली कमाई ही मुख्य श्रोत रह गया है। प्रॉपर्टी टैक्स से मनपा को 2018-19 में 5206 करोड़ की कमाई हुई थी, जबकि 2019- 20 में 5016 करोड़ कमाई का अनुमान है। दस  माहीनों के दरख्यान कुल कमाई का 35 से 40 प्रतिशत कमाई मनपा की तिजोरी में आ जाना चाहिए था, लेकिन अभी तक मात्र 334 करोड़ रुपए की ही कमाई हुई है, जो कि कुल कमाई का मात्र 15 प्रतिशत हिस्सा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार प्रॉपर्टी टैक्स में कमाई घटने के बाद मनपा सहायक आयुक्त संगीत हसनाले ने मनपा आयुक्त प्रवीण परदेशी को पत्र लिखकर कमाई घटने पर चिंता जताई है। कमाई इसी तरह घटती रही तो अगले साल के बजट में उसका असर दिखाई देगा और मनपा का खजाना खाली होता नजर   आएगा, जिसका खामियाजा मनपा द्वारा शुरू की गई योजनाओं पर भी पड़ सकता है।

विवादों में घिरा है 500 वर्ग फिट तक छूट देने का मामला
राज्य सरकार ने मुंबई में रहने वाले 500 वर्ग फिट के घरों में रहने वाले लोगों के प्रॉपर्टी टैक्स को माफ करने का निर्णय लिया था। ऐसे में पांच सौ फिट क्षेत्रफल वाले घरों में रहने  वाले नागरिकों को लगा कि अब उन्हें प्रॉपर्टी टैक्स भरने से मुक्ति मिल जाएगी, लेकिन उनका यह सपना बेजा है। कहा गया है कि प्रॉपर्टी टैक्स का एक हिस्सा, जिसे उसके मूल कर  के रूप में जाना जाता है, उसमें छूट दी गई है, जो कि मात्र 18 प्रतिशत है। दूसरी तरफ मनपा में सत्तासीन शिवसेना ने प्रॉपर्टी टैम्स में पूरी तरह छूट देने पर अड़ी है, जिसके चलते   किसी को भी बिल नहीं भेजा गया। इससे प्रॉपर्टी टैक्स की कमाई पर अधिक असर पड़ा है।

घटती कमाई के लिए प्रशासन जवाबदार
मनपा की कमाई का मुख्य श्रोत प्रॉपर्टी टैक्स की वसूली है, जिसके घटने से मनपा की तिजोरी पर असर पड़ा है, जो चिंतत करने वाली बात है। इस तरह का आरोप लगाते हुए   मनपा में विरोधी पक्ष नेता रविराजा ने कहा कि इसके लिए स्वत: प्रशासन जिम्मेदार है। रविराजा ने कहा कि एक ओर मनपा की खुद की कमाई घट रही है तो, वहीं दूसरी ओर कर्ज  में डूबी बेस्ट को बचाने के लिए मनपा का फिक्स में रखे पैसों को तोड़कर बेस्ट को दे रही है। खुद की हालत धीरे-धीरे कर्ज बाजारी हो रही है और दूसरे के कर्ज का पैसा चुकाया जा  रहा है। मनपा अधिकारी खुद की कमाई पर ध्यान नहीं दे रहे है। सिर्फ लुटाने का काम कर रहे हैं। दूसरी ओर सत्ताधारी शिवसेना टैक्स में छूट देने की आस मुंबई की जनता को  दिखाकर उनकी सुविधाओं से खिलावड़ कर रही है। अस्पताल में मरीजों को दवाइयां नहीं मिल पा रही है। स्कूलों में गरीब बच्चों को उच्च कोटि की शिक्षा उपल ध नहीं कराया जा रहा  है। सड़कों की अवस्था दिन प्रतिदिन विकट होती जा रही है और कोस्टल रोड बनाने का सपना दिखाया जा रहा है। मनपा की अनुमानित कमाई जीएसटी 9073,28 करोड़, प्रॉपर्टी  टैक्स 5016,19 करोड़, विकास नियोजन विभाग 3453,64 करोड़, अन्य कमाई के रास्ते से होने वाली कमाई 7440,71 करोड़।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget