चावल निर्यातकोंको झटका

यूरोप में चावल भेजने से पहले लेना होगा सर्टिफिकेट

Rice
नई दिल्ली
चावल निर्यातकों को अब यूरोपीय यूनियन में शामिल देशों में चावल निर्यात करने से पहले किसी सरकारी एजेंसी से सर्टिफिकेट लेना होगा। दोनों प्रकार के लिए चावल बासमती और  गैर बासमती के निर्यात के लिए यह नियम लागू होगा। बुधवार को विदेश व्यापार महानिदेशालय की तरफ से इस संबंध में अधिसूचना जारी की गई। अधिसूचना में कहा गया है कि  किसी भी प्रकार के चावल निर्यात से पहले एक्सपोर्ट इंस्पेक्शन काउंसिल या एजेंसी से सर्टिफिकेट प्राप्त करना होगा जो इस बात की गारंटी लेगा कि निर्यात होने वाले चावल में  पेस्टिसाइड की मात्रा कम है और यह खतरनाक नहीं है। यह अधिसूचना तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है। दिल्ली, मुंबई, कोच्चि, कोलकाता और चेन्नई में सर्टिफिकेट एजेंसी के  कार्यालय हैं। यूरोप में चावल निर्यात करने वाले कारोबारियों ने बताया कि इस प्रकार की शर्तें निर्यात को और कम करेंगी। चावल निर्यातक पंकज गोयल ने बताया कि भारत के  चावल में पेस्टिसाइड की मात्रा अधिक होती है जबकि पाकिस्तान के चावल में पेस्टिसाइड काफी कम होती है या नहीं होती है। उन्होंने बताया कि यही वजह है कि यूरोप से भारत को  मिलने वाले आर्डर पाकिस्तान शिफ्ट हो रहे हैं। चावल निर्यातकों का कहना है कि यूरोप एक अमीर बाजार है जहां अच्छी कीमत मिलती है और अच्छी गुणवत्ता वाले प्रीमियम चावल  लोग खाना पसंद करते हैं। डीजीएफटी के मुताबिक भारत से दो प्रकार के बासमती चावल पीबी1 और 1401 का निर्यात यूरोप में किया जाता है। भारत सालाना 3 लाख टन चावल का  निर्यात यूरोप को करता है। गोयल कहते हैं पहले 4 लाख टन के आसपास यह निर्यात था जो कम हो रहा है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget