वीआरएस लागू होने के बाद बीएसएनएल को होगी 1,300 करोड़ रुपए की बचत

नई दिल्ली
सार्वजनिक क्षेत्र की भारत संचार निगम लि. (बीएसएनएल) ने मंगलवार को कहा कि 78,569 कर्मचारियों ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) का विकल्प चुना है। इससे  कंपनी को चालू वित्त वर्ष की शेष अवधि में वेतन मद में 1,300 करोड़ रुपए की बचत की उम्मीद है। योजना जनवरी से अमल में आएगी। बीएसएनएल के चेयरमैन और प्रबंध  निदेशक पीके पुरवार ने संवाददाताओं से कहा कि स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) 31 जनवरी 2020 से प्रभाव में आएगी। हमारा लक्ष्य है कि जिन लोगों ने वीआरएस के  लिए आवेदन किया है, उन पर विचार किया जाए और उसे मंजूरी दी जाए। एमटीएनएल के साथ विलय के बारे में पुरवार ने कहा कि चर्चा शुरू हुई है और दोनों कंपनियों के निदेशक  मंडल की बैठक हुई है। उन्होंने कहा कि इस समय हमारा लक्ष्य नेटवर्क एकीकरण और परिचालन में तालमेल पर है। इसको लेकर चर्चा शुरू हुई है। चूंकि वीआरएस 31 जनवरी 2020 से प्रभाव में आएगी, कंपनी को वेतन मद में चालू वित्त वर्ष की शेष अवधि में 1,300 करोड़ रुपए की बचत होगी। उच्चतम न्यायालय के समायोजित सकल राजस्व पर हाल   के फैसले से कंपनी के ऊपर वैध बकाए के बारे में पुरवार ने कहा कि वित्तीय दबाव परिदृश्य को देखते हुए हमने सरकार से बकाए की वसूली पर पुनर्विचार करने या कंपनी को जो राशि देनी है, उसके बराबर समान राशि के बराबर इक्विटी पूंजी डालने को कहा है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget