सेंगर पर 20 को फैसला

Kuldeep Sengar
नई दिल्ली
उत्तर प्रदेश के उन्नाव दुष्कर्म केस में दोषी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की सजा पर दिल्ली की कोर्ट में मंगलवार को बहस हुई। 20 दिसंबर को दोषी विधायक की सजा को लेकर  बहस होगी। इसके बाद कोर्ट इस मामले में अपना अंतिम फैसला सुना सकती है। इससे पहले सुनवाई में सीबीआई ने दोषी विधायक के लिए अधिकतम सजा की मांग की। साथ ही,  पीड़ित के लिए उचित मुआवजा भी मांगा। सोमवार को तीस हजारी कोर्ट ने भाजपा से निष्कासित विधायक कुलदीप (53) को नाबालिग लड़की से दुष्कर्म और अपहरण का दोषी करार  दिया था। कोर्ट ने कहा था कि एक ताकतवर इंसान के खिलाफ पीड़ित का बयान सच्चा और निष्कलंक है। पीड़ित की तरफ से कोर्ट में दोषी को उम्र कैद की अपील की गई। कोर्ट ने  इस मामले में सह-आरोपी शशि सिंह को बरी कर दिया था।

2017 का था मामला
कुलदीप सेंगर और उसके साथियों ने 2017 में लड़की को अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म किया था। इसी साल जुलाई में पीड़ित की कार की ट्रक से भिड़ंत हो गई थी। हादसे में पीड़ित  की चाची और मौसी की मौत हो गई थी। पीड़ित लड़की और उसके वकील तभी से दिल्ली एक्स में भर्ती हैं। सेंगर फिलहाल तिहाड़ जेल में बंद हैं।

कोर्ट ने सीबीआई को लगाई थी फटकार
न्यायाधीश धर्मेश शर्मा ने कहा कि पीड़ित का यह बयान कि उसका यौन शोषण हुआ, मुझे यह सच्चा और निष्कलंक लगता है। उसे धमकाया गया था और वह परेशान थी। वह किसी  कॉस्मोपॉलिटन के शिक्षित इलाके की नहीं, गांव की लड़की है। सेंगर एक ताकतवर शक्स था। ऐसे में पीड़ित ने अपना समय लिया। न्यायाधीश ने कहा कि जब पीड़ित के परिवार ने  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा, तब उसके परिवार के खिलाफ कुछ आपराधिक मुकदमे दर्ज करा दिए गए। इनमें सेंगर का प्रभाव दिखाई दे रहा था।  अदालत ने दुष्कर्म के मामले में सीबीआई द्वारा चार्जशीट दाखिल करने में देरी पर हैरानी जताई। कोर्ट ने कहा कि इससे सेंगर और अन्य के खिलाफ ट्रायल में देरी हुई। कोर्ट ने कहा  कि महिला अधिकारी की गैर-मौजूदगी में जांच की गई और आरोप तय किए गए। इस बात की फिक्र भी नहीं की गई कि यौन शोषण की पीड़ित किस यातना से गुजरेगी और दोबारा उस पीड़ा को भोगेगी।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget