स्टेट ट्रांसपोर्ट की एसी बसें 'खतरनाक'

AC Bus
मुंबई
कुछ समय पहले राज्य परिवहन विभाग ने वातानुकूलित बसों की शुरुआत की थी। इन बसों को तो अच्छा प्रतिसाद मिला, लेकिन इनसे हो रही दुघर्टनाओं ने प्रशासन की चिंता बढ़ा  दी है। अप्रैल 2019 से सितंबर 2019 तक 6 महीने में स्टेट ट्रांसपोर्ट की वातानुकूलित बसों से 221 दुर्घटनाएं हुई हैं। इनमें से 74 दुर्घटनाओं में यात्री गंभीर रूप से घायल हुए हैं, या  उनकी मौत हो हुई है। इनमें से भी लीज पर चलने वाली बसों की तुलना में एसटी की अपनी बसें ज्यादा हादसों का शिकार हुई हैं। सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए अब स्टेट  सपोर्ट  के ड्राइवरों की क्लास लगेगी। यानी उन्हें दोबारा प्रशिक्षित किया जाएगा। प्रशिक्षण के दौरान दुर्घटना की गंभीरता और उन्हें टालने के उपाय सिखाए जाएंगे। निजी ऑपरेटरों से  मिल रही चुनौती के बाद स्टेट ट्रांसपोर्ट ने 2017 में वातानुकूलित बसों की शुरुआत की थी। इनमें से कुछ 'शिवशाही' बसें एसटी ने खरीदीं, तो कुछ बसें लीज पर लीं। लेकिन  दुर्घटनाओं को लेकर 'शिवशाही' बसें ज्यादा चर्चा में रहीं। इन मामलों के बाद वातानुकूलित 'शिवशाही' सेवाओं पर सवाल उठने लगे हैं।

तुलनात्मक रूप से कम हुई हैं घटनाएं

हालांकि, अप्रैल 2018 से सितंबर 2018 के बीच 'शिवशाही' से 240 घटनाएं हुई थीं। इसकी तुलना में इस वर्ष 221 दुर्घटनाएं हुई हैं। एसटी महामंडल की ओर से बताया गया कि  ड्राइवरों को दोबारा प्रशिक्षण देने के बाद घटनाओं में निश्चित तौर पर कमी आएगी। 'शिवशाही' बस ड्राइवरों के साथ ही शिवनेरी और नीमआराम बसों के ड्राइवरों को भी प्रशिक्षित किया जाएगा।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget