बंगले के बाद मंत्रियों को कार्यालय आवंटित

मुंबई
विगत 28 नवंबर को राज्य में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में बनी शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की महाविकास आघाड़ी की सरकार में मुख्यमंत्री सहित छह अन्य मंत्रियों को मंत्रालय में  कार्यालय आवंटन किए गए। मंगलवार को सामान्य प्रशासन विभाग ने एक शासनादेश जारी कर इसकी सूचना दी। विभाग की तरफ से जारी शासनादेश के अनुसार मंत्रालय के नई  इमारत की छठवीं मंजिल पर स्थित मुख्यमंत्री कार्यालय और पुरानी इमारत में मंत्री एकनाथ शिंदे को तीसरी मंजिल पर 307, 302 नंबर का कार्यालय मिला है, जो पिछली सरकार  में पूर्व राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल को मिला था। इसके अलावा मंत्रालय के नई इमारत की पांचवीं मंजिल पर शिवसेना के वरिष्ठ मंत्री सुभाष देसाई को कार्यालय आवंटन किया गया  है, जो पिछली देवेंद्र फड़नवीस की सरकार में वित्त मंत्री रहे सुधीर मुनगंटीवार का कार्यालय था। इसी तरह पिछली सरकार में गृहनिर्माण मंत्री प्रकाश मेहता, उसके बाद राधाकृष्ण  विखे-पाटिल के कार्यालय 607 को राकांपा के वरिष्ठ मंत्री जयंत पाटिल को दिया गया है। वहीं मंत्री छगन भुजबल को नई इमारत की दूसरी मंजिल में और बालासाहेब थोरात को  पुरानी इमारत की पहली मंजिल पर कार्यालय आवंटन किया गया है, जो पिछली सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े का कार्यालय हुआ करता था। इसी प्रकार कांग्रेस के मंत्री  नितिन राउत को मुख्य इमारत की चौथी मंजिल पर कार्यालय आवंटित किया गया है। बता दें कि बीते गुरुवार को राज्य में शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में महाविकास   आघाड़ी की सरकार स्थापित हुई है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ अन्य छह नेताओं ने मंत्री पद की शपथ ली थी। सत्ता स्थापित होने के तीन दिन बाद सामान्य प्रशासन विभाग की  तरफ से मुख्यमंत्री सहित चार अन्य मंत्रियों को सरकारी आवास (बंगले) आवंटित किए गए।

बंगले न मिलने से कांग्रेसी नाराज
राज्य में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की महाविकास आघाड़ी की सरकार स्थापित हो गई है। सत्ता स्थापित होने के दौरान तीनों पार्टी के नेताओं  ने दावा किया था कि यह सरकार अपना कार्यकाल पांच साल पूरा करेगी। लेकिन सत्ता स्थापित होने के पांच दिन बाद ही महाविकास आघाड़ी की सहयोगी कांग्रेस पार्टी के नेता  नाराज हो गए हैं, ऐसी चर्चा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार राज्य में महाविकास आघाड़ी की सत्ता स्थापित होने के तीन दिन बाद सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा मुख्यमंत्री  सहित शिवसेना और राकांपा के मंत्रियों को सरकारी आवास (बंगला) आवंटित किए गए। लेकिन कांग्रेस के नवनिर्वाचित मंत्री बालासाहेब थोरात और नितिन राउत के बंगले का आवंटन  नहीं किया गया। जिसके कारण कांग्रेस के मंत्री और नेता नाराज हैं। सूत्रों का कहना है कि बीते 28 नवंबर को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के दो-दो  मंत्रियों ने शपथ ली थी। सूत्रों से जानकारी मिली है कि शपथ लेने के एक सप्ताह बीत जाने के बाद भी न मंत्रियों के विभागों का बंटवारा हुआ और न ही निवास स्थानों का आवंटन  किया गया है, जिसे लेकर कांग्रेस खेमे में भारी नाराजगी दिखाई दे रही है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget