देर रात महिलाओं को घर तक छोड़ने में अहम कड़ी साबित होगी पीआरवी टीम : डीजीपी

लखनऊ
उार प्रदेश में रेप की घटनाओं के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने अब महिला सुरक्षाको लेकर अहम पहल शुरू की है। इसी क्रम में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर अब 112 पीआरवी (पुलिस रिस्पांस  व्हीकल) में महिला पुलिसकर्मियों की भी तैनाती की जा रही है, जिसके लिए सामान्य गश्त और इमर्जेंसी के दौरान महिलाओं की मदद के लिये महिला सिपाहियों का राजधानी लखनऊ समेत सूबे  के सभी जिलों में 18 दिवसीय एक विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा है।
डीजीपी ओपी सिंह ने सबसे पहले पीआरवी में काम करने की इच्छा जताने वाली महिला सिपाहियों की जमकर तारीफ की और फिर सूबे में महिला सुरक्षा को एक बड़ी चुनौती बताते हुए महिला  सुरक्षा के लिये शुरू की गई 112 नबंर पर विशेष सेवा को सफल बनाने की बात की। इस दौरान डीजीपी ने न सिर्फ महिला सुरक्षा से जुड़े इस विशेष प्रशिक्षण को बेहद गंभीरता के साथ पूरा  करने की सलाह दी। बल्कि रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक यूपी पुलिस के 112 नबंर पर कॉल कर मदद मांगने वाली महिलाओं की तत्काल मदद कर यूपी पुलिस की छवि को सुधारने का  निर्देश दिया। ऐसे में महिलाओं की सुरक्षा में महिला पीआरवी का गठन होने से महिला पुलिसकर्मी भी खासा उत्साहित नजर आ रही है। पीआरवी में काम कर रही सिपाही मंजू यादव बताती हैं  कि 'मैं पीआरवी पर पिछले एक  साल से चल रही हूं।' पहले मं पुरुष पीआरवी पर चल थी। अब हमारी पोस्टिंग महिला पीआरवी पर हो गई है, जिस पर तो और अच्छा लग रहा है। अब 112  नंबर पर कॉल करने पर महिलाओं को ये सुविधा मिलेगी। इसके तहत 112 की पीआरवी में महिला सिपाहियों की मदद से महिलाओं को घर छोड़ा जाएगा। 

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget