उद्धव सरकार ने साबित किया बहुमत

Uddhav Thakare
मुंबई
महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की सरकार ने विधानसभा में बहुमत साबित कर दिया है। नई नवेली उद्धव ठाकरे सरकार को 288 सदस्यों वाली विधानसभा के फ्लोर टेस्ट में 169  विधायकों ने समर्थन दिया, जबकि 4 विधायकों ने किसी के भी पक्ष में वोट नहीं दिया। भाजपा के सदस्यों ने वॉकआउट कर दिया था, इसलिए वोटिंग के दौरान सरकार के खिलाफ  एक भी वोट नहीं पड़ा। कांग्रेस के नेता अशोक चव्हाण ने उद्धव ठाकरे की सरकार का विश्वास प्रस्ताव रखा। इस प्रस्ताव का राकांपा के नवाब मलिक और शिवसेना के सुनील प्रभु ने  अनुमोदन किया था। विश्वास मत प्रस्ताव के तहत पहले सभी सदस्यों से राय जानी गई और उनकी गिनती भी हुई।

मनसे ने नहीं दिया सरकार के पक्ष में वोट
फ्लोर टेस्ट के दौरान राजठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने सरकार के पक्ष में मतदान नहीं किया। इसके अलावा तीन अन्य विधायकों ने भी किसी भी पक्ष में वोट नहीं  दिया।

भाजपा का वॉकाआऊट
इस दौरान भाजपा के विधायकों ने सत्र को नियम के तहत न बुलाने पर वॉकआउट कर दिया। 'दादागीरी नहीं चलेगी, नहीं चलेगी' का नारा लगाते हुए भाजपा विधायक सदन से बाहर  चले गए। सदन से बाहर निकलने पर मीडिया से बात करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति गलत तरीके से की गई है। इसके अलावा  मंत्रियों ने जो शपथ ली है, वह गलत है। किसी ने सोनिया गांधी, किसी ने बालासाहेब ठाकरे और किसी ने शरद पवार का नाम लेकर शपथ ली, जो गलत था। फ्लोर टेस्ट नियमित   स्पीकर तय किए जाने के बाद होता है, लेकिन इस सरकार ने डर के चलते ऐसा किया है। हम राज्यपाल से सदन की कार्यवाही निरस्त करने की मांग करेंगे। सदन वंदे मातरम् के  साथ शुरू होना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। सदन के बाहर पत्रकारों से बातचीत में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि सदन में नई सरकार के बहुमत साबित करने  को लेकर नियम का उल्लंघन हुआ है, जिसके खिलाफ भाजपा सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाएगी।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget