बिहार में फिर साथ आ सकती है जेडीयू-आरजेडी!

पटना
 महाराष्ट्र में सियासी उलटफेर के बाद शिवसेना ने भाजपा के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन को छोड़ कांग्रेस और एनसीपी से गठजोड़ कर सरकार बना ली। अब इसका असर बिहार की राजनीति पर भी पड़ता दिख रहा है। राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने बड़ा दावा करते हुए कहा के कि महाराष्ट्र की राजनीति का साइड इफेक्ट जल्दी ही  बिहार में भी देखने को मिल सकता है। राजद के वरिष्ठ नेता ने दावा किया है कि बहुत जल्द बिहार मे बड़ा राजनीतिक उलटफेर हो सकता है। जेडीयू-आरजेडी के बीच अंदरखाने  बातचीत शुरू हो गई है और आरजेडी को भी जेडीयू के साथ जाने से कोई ऐतराज नहीं है।
बता दें कि बीते सितंबर में भी रघुवंश प्रसाद सिंह ने दावा किया था कि जेडीयू और आरजेडी में अंदरखाने बातचीत शुरू हो गई है और बहुत जल्द इसका परिणाम भी सामने आ  जाएगा। उन्होंने तब कहा था कि भाजपा नीतीश कुमार को फिनिश करना  चाहती है, इस वजह से वे राजद के साथ आएंगे। गौरतलब है कि जिस तरह शिवसेना ने चुनाव बादगठबंधन तोड़ कांग्रेस-एनसीपी के साथ महाराष्ट्र में  सरकार बना ली ठीक ऐसा ही वाकया बिहार में वर्ष 2017 में हो चुका है। तब वर्ष 2015 में सीएम  नीतीश कुमार की जेडीयू और लालू प्रसाद यादव की आरजेडी ने साथ चुनाव लड़ा, जीते और सरकार भी बनाई। लेकिन, वर्ष 2017 में सीएम नीतीश कुमार ने पाला बदल लिया और भारतीय जनता पार्टी के  साथ मिलकर सरकार बना ली। हालांकि जेडीयू ने रघुवंश प्रसाद सिंह के बयान का खंडन नहीं किया है। पूर्व मंत्री और जेडीयू के वरिष्ठ नेता राम लषन राम रमन ने कहा कि रघुवंश  ह वरिष्ठ नेता हैं, वो क्या बोले इसे हमें मतलब नहीं है, लेकिन आज एनडीए पूरी तरह एकजुट है। लेकिन राजनीति में कल क्या हो कौन जानता है ? राजनीति में कुछ भी संभव  है? बहरहाल एक बार फिर बिहार सुर्खियों में है, क्योंकि यहां अगले साल अक्टूबर-नवंबर के महीने में विधानसभा का चुनाव होना है और तेजी से बदलते राजनीतिक समीकरणों के  बीच राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने एक बार फिर अपने बयान से बिहार की राजनीति में हलचल ला दी है। 

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget