ओरियंटल इंश्योरेंस में होगा नेशनल और यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस का विलय

Oriental Insurance
नई दिल्ली
सरकारी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड और यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड का ओरियंटल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड में विलय हो सकता है।  वित्त मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, इन तीनों कंपनियों के विलय को सैद्धांतिक मंजूरी मिल चुकी है और बजट से पहले या बाद में कभी भी इस विलय की औपचारिक घोषणा हो  सकती है। सूत्रों का कहना है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट में इन कंपनियों के लिए कैपिटल इंफ्यूजन की भी घोषणा कर सकती है। नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के  बोर्ड ने ओरियंटल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड और यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के साथ अपने विलय को मंजूरी दे दी है। वेस्ट बंगाल स्टेट जनरल इंश्योरेंस एंप्लॉईज  एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी तपन मित्रा का कहना है कि विलय को मंजूरी देने के लिए सोमवार को नेशनल इंश्योरेंस कंपनी की बोर्ड बैठक कोलकाता में हुई थी, जिसमें इसको  हरी झंडी दे दी गई है। तपन मित्रा का कहना है कि सरकार की ओर से तीनों कंपनियों के विलय की घोषणा से पहले यह बैठक बुलाई गई थी। तीनों कंपनियों के विलय को लेकर  तैयारियां पूरी तरह से हो गई हैं। ओरियंटल इंश्योरेंस कंपनी और  यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड का बोर्ड पहले ही विलय को मंजूरी दे चुका है। इस संबंध में दोनों जनरल  बीमा कंपनियों के बोर्ड की बैठक शुक्रवार को हुई थी। ट्रेड यूनियंस का दावा है कि सरकार चार सरकारी जनरल बीमा इंश्योरेंस कंपनियों का विलय कर एक बड़ी कंपनी बनाना चाहती  है। इस विलय में न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी भी शामिल हो सकती है। वित्त वर्ष 2018- 19 के आम बजट में तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने तीनों सरकारी जनरल बीमा  कंपनियों के विलय के प्रस्ताव की घोषणा की थी। हालांकि, कई कारणों से अभी तक विलय की प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी है। इसमें कंपनियों की खराब वित्तीय हालत भी एक प्रमुख  कारण है। सूत्रों का कहना है कि सरकार तीनों कंपनियों की वित्तीय हालत सुधारने के लिए बजट में कैपिटल इंफ्यूजन की घोषणा भी कर सकती है। तीनों कंपनियों को विलय के  लिए 10 से 12 हजार करोड़ रुपए की अतिरिक्त पूंजी की आवश्यकता है।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget