तोड़े गए अवैध निर्माणों का मलबा नदी में बिखरने से पानी का बहाव रुका

उल्हासनगर
उल्हासनगर शहर के मध्य से बहने वाली वालधुनी नदी के किनारे बनाए गए अवैध निर्माणों पर कार्रवाई के बाद कटिंग और तोड़े गए निर्माणों का मलबा नदी में बिखरने से पानी का  बहाव रुक गया है, जिससे पानी के बहाव में भी समस्या उत्पन्न होने लगी है। बता दें कि प्रशासन द्वारा शिव मंदिर उल्हासनगर-5 स्थित वालधुनी नदी के पुल के पास अवैध   निर्माणों की कटिंग की गई है। उसके द्वारा तोड़े गए निर्माण का मलबा नदी में बिखर कर नदी को पाटने लगा है। ध्यान देने की बात है कि नदी की शुरुआत में 22 किलोमीटर तक  नदी में मनपा और नगरपालिका प्रशासन की लापरवाही के चलते किनारे लाखों अवैध निर्माण कर लिए गए है। परंतु प्रशासन अभी तक उसके खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं कर सका  है। नदी के पास में दीवार खड़ी कर नदी पर स्लैब डालना, अपने तोड़े निर्माण का मलबा नदी में डालना और फिर उसी जगह पर कब्जा करके अवैध निर्माण कर लेना यह सिलसिला  बरसों से चल रहा है। इस मामले में जानकारी के बाद भी मनपा और नगर पालिका प्रशासन कार्रवाई करने से कतरा रहे हैं, जिसके कारण नदी संकरी होने लगी है और नदी में  मानसून के दौरान पानी का बहाव रुक जाने से आसपास के निवासीय परिसरों को नदी चपेट में ले लेती है, जिससे नागरिकों को करोड़ों रुपए का नुकसान उठाना पड़ता है। शहर के  जागरूक नागरिकों द्वारा मनपा प्रशासन से नदी के जमीन को कब्जा करने को लेकर अनेकों बार शिकायतें की गई हैं. परंतु प्रशासन कुंभकरणीय नींद में सोया रहता है।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget