सावरकर के अपमान के विरोध में आंदोलन

ठाणे
भोपाल में कांग्रेस सेवादल के प्रशिक्षण शिविर में वीर सावरकर कितने वीर? नामक पुस्तक बांटी गई। इस पुस्तक में अत्यंत ही हीन स्तर पर वीर सावरकर के प्रति द्वेष और सत्य  लेखन किया है । इससे यही जान पड़ता है कि कांग्रेस के लोग स्वतंत्रता के वीरों की अपकीर्ती करने के लिए कितने निचले स्तर पर जा सकते हैं । भविष्य में ऐसा अनादर केवल  वीर सावरकर का ही नहीं, अपितु किसी भी राष्ट्रपुरुष और क्रांतिकारियों का अन्य किसी से भी न हो, इसके लिए केंद्र सरकार को तुरंत ही इस संदर्भ में कानून बनाने की आवश्यकता  है। कांग्रेस द्वारा वितरित पुस्तक से देश की धार्मिक और जातीय तनाव उत्पन्न कर समाज में फूट डालने का कुटिल षड्यंत्र ध्यान में आता है । कांग्रेस का वीर सावरकर द्वेष, यह  संपूर्ण क्रांतिकारी आंदोलन के प्रति ही द्वेष है। अत: इस आक्षेपजनक पुस्तक पर देशभर में तुरंत प्रतिबंध लगाया जाए, उसके लेखक और प्रकाशक पर कठोर से कठोर कार्रवाई की  जाए, ऐसी मांग हिंदू जनजागृति समिति के अजय संभूसजी ने की है। वीर सावरकर के अपमान के विरोध में शुक्रवार की शाम ठाणे रेलवे स्टेशन के बाहर सॅटिस पुल के नीचे सभी  हिंदुत्वनिष्ठ संगठनों का आंदोलन हुआ, इस अवसर पर अजय संभूसजी बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि हम सभी सावरकर लिखे हुए फलक के साथ इस आंदोलन में सहभागी हुए थे  और सावरकर का अपमान करने वालों पर कडी कार्रवाई की मांग भी की गई। इसमें विविध हिंदुतत्वनिष्ठ संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हुए थे। कांग्रेस के शिविरों में देश के क्रांतिकारी समलिंगी संबंध रखने वाले, मस्जिदों पर पथराव करने वाले, अल्पसंख्यक महिलाओं पर बलात्कार करने वाले थे, ऐसे उल्लेखवाली अत्यंत गलिच्छ पुस्तक बांटकर आखिर क्या सिखाया जाता है ? इससे तो यही सिद्ध होता है कि कांग्रेसी शिविर सामाजिक शांति भंग कैसे कर सकते हैं, इसके प्रशिक्षण केंद्र हैं । वीर सावरकर जैसे महान राष्ट्रभक्त की  अवहेलना सार्वजनिकरूप से निरंतर हो रही है । कोई भी आता है और उनके चरित्र पर लांछन लगाता है । यह अक्षक्य और असहनीय है। अब सरकार बार-बार होने वाली ऐसी घटनाओं से राष्ट्रभक्त नागरिकों की सहनशीलता का अंत न देखे। दोषियों पर कठोर से कठोर और शीघ्र कार्रवाई करे। इसके साथ ही यह मांग भी की गई कि आज तक वीर  सावरकर का जो अनादर हुआ है, उसकी क्षतिपूर्ती करने के फलस्वरूप वीर सावकर को सर्वोच्च नागरी पुरस्कार भारतरत्न तुरंत घोषित किया जाए।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget