व्यक्तिगत बीमा उत्पादों में बदलाव लागू

Max Life
नई दिल्ली
निजी क्षेत्र की बीमा कंपनी मैक्स लाइफ इंश्योरेंस ने बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) के दिशानिर्देशों के अनुसार अपने सभी व्यक्तिगत बीमा उत्पादों में जरूरी बदलाव  को क्रियान्वित करने की प्रक्रिया पूरी कर ली है। इन बदलावों में बंद पड़े बीमा उत्पादों को फिर से चालू की अवधि में बढ़ोतरी शामिल है। कंपनी ने बुधवार को एक बयान में कहा कि  इसके साथ ही मैक्स लाइफ उन बीमा कंपनियों में से एक बन गई है, जिन्होंने इरडा की ओर से तय समयसीमा से पहले अपने ग्राहकों के लिए नए ढांचे के अंतर्गत व्यक्तिगत  उत्पाद पोर्टफोलियो की संपूर्ण श्रृंखला में बदलाव किया है। इसमें लिं€ड प्रोडक्ट, नॉन लिं€ड प्रोडक्ट और सेवानिवृत्ति/पेंशन उत्पाद शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि बीमा नियामक ने पिछले  साल परिपत्र जारी कर सभी जीवन बीमा कंपनियों से उक्त उत्पादों में जरूरी बदलाव 31 जनवरी 2020 से पहले करने को कहा था। मैक्स लाइफ इंश्योरेंस के निदेशक एवं मुख्य  विपणन अधिकारी आलोक भान ने बयान में कहा कि नियामक के दिशानिर्देशों के अनुसार कंपनी ने लिं€ड उत्पादों के मामले में उसे फिर से चालू करने अवधि दो साल से बढ़ाकर 3  साल कर दी है। उन्होंने कहा कि साथ ही ग्राहकों के लिए उत्पाद को बेहतर बनाया गया है। इसके तहत ग्राहकों को बेहतर सुविधा देने के लिए लिं€ड उत्पाद अब से कुल चुकाए गए  प्रीमियम के 105 फीसदी के बराबर जोखिम कवर के साथ उपलब्ध होगा। इसके अलावा निपटान अवधि के दौरान फंड पोर्टफोलियो में बदलाव भी किए जा सकेंगे। इसके अलावा नए  नियमों के मुताबिक 5 वर्षों की लॉक- इन अवधि खत्म होने के बाद प्रीमियम को एक बार वास्तविक सालान प्रीमियम के 50 फीसदी के बराबर कम करने का विकल्प भी लागू हो  जाएगा। बयान के अनुसार नॉन-लिं€ड प्रोडक्ट में बदलाव के अंतर्गत कंपनी ने बंद पड़े बीमा उत्पाद को फिर से चालू करने अवधि को 2 वर्ष से बदलकर 5 वर्ष कर दिया है। इसके  अलावा कंपनी ने पॉलिसी के लिए 2 वर्षों के प्रीमियम भुगतान के बाद गारंटी के साथ सरेंडर वैल्यू देने की भी शुरूआत की है, भले ही भुगतान करने की अवधि कुछ भी हो। (अब  तक यह 10 वर्षों से कम अवधि के लिए 2 वर्ष के बाद और 10 वर्ष या उससे ज्यादा अवधि के लिए 3 वर्ष के बाद मिलता था।)। सेवानिवृत्ति/पेंशन योजना में किए गए बदलावों के   मुताबिक पॉलिसी फिर से चालू करने की अवधि 2 से 3 वर्ष कर दी गई है। नए ढांचे के अंतर्गत पेश किए गए उत्पादों में किसी और को सौंपने, सरेंडर करने या मौत होने पर  लाभार्थी को एकमुश्त 60 फीसदी रकम पाने का मौका मिलेगा जबकि अब तक यह रकम 33 फीसदी थी।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget