हल्दी और लहसुन दिलाते हैं दांतों की कैविटी से छुटकारा

Smile
मुंह की कई तरह की समस्याओं में दांतों की कैविटी (दांतों में छेद) एक समस्या है, जो बहुत ही आम है। यह समस्या सिर्फ बच्चों को ही होती है, जरूरी नहीं। यह किसी भी उम्र में  हो सकती है। दांतों में कैविटी हो गई है, तो आइए जानते हैं कुछ घरेलू नुस्खे, जो इस मर्ज में रामबाण की तरह काम करेंगे...

कारण
चीनी या चिपचिपे भोज्य पदार्थ दांत पर ल्बे समय तक चिपके रहना। क सोते समय कुछ भी खाकर कुल्ला न करना या पानी न पीना। क सही तरीके से मुंह और दांतों की सफाई न  करना।
मुंह में लार कम बनना।

नीम की दातून करें
नीम की दातून करना दांत की हर तरह की समस्या को दूर कर देता है। दातून करने के बाद कड़वाहट कम करने के लिए पेस्ट भी कर सकते हैं। नीम में एंटी-माइक्रोबियल गुण होते  हैं जो कैविटी पैदा करने वाले बैक्टीरिया को दूर करता है।

लौंग का तेल
दांत में कीड़े लगे हों या दर्द हो रहा हो तो लौंग के तेल का उपयोग करें, जिस दांत में दर्द हो वहां लौंग के तेल को रुई लगाकर दबा दें। लौंग के तेल में एन-हेक्सेन पाया जाता है जो   कैविटी का दुश्मन होता है।

लहसुन

इसमें एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं और यह कैविटी से लड़ने में सक्षम है। यह दांतों में सड़न और मुंह की बदबू भी दूर करता है। इनसे छुटकारे के लिए रोज कच्चे लहसुन की एक  कली चबाना होगा।

नमक-पानी

यह सदियों पुराना नुस्खा है। एक चम्मच नमक को एक गिलास पानी में मिलाकर गर्म कर लें और इसका कुल्ला करते रहें। नमक के साथ पानी में मौजूद फ्लोराइड कैविटी को दूर  कर देता है।

हल्दी मलें
हल्दी पाउडर को उंगली पर लेकर दांतों और मसूड़ों पर मंजन की तरह मलें। फिर ब्रश कर लें। हल्दी में भी एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो मसूड़ों में सूजन  और ढीलेपन को सही करते हैं।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget