वाडिया अस्पताल को ऑक्सिजन

अस्पताल को मिलेंगे 46 करोड़ रूपये

मुंबई
मुंबई में छोटे बच्चों का इलाज करने वाले वाडिया अस्पताल को शुरु रखने का रास्ता सरकार ने निकाल लिया है। अस्पताल को पहले की तरह चलाने के लिए कुल 46 करोड़ रुपए  दिए जाएंगे। इसमें से 24 करोड़ रुपए राज्य सरकार देगी, जबकि 22 करोड़ रुपए मुंबई महानगरपालिका की तरफ से दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में वाडिया  अस्पताल को चलाए रखने का मार्ग निकाल लिया गया। मंगलवार को मंत्रालय में हुई बैठक में नुस्ली वाडिया के अलावा उपमुख्यमंत्री अजित पवार, नगरविकास मंत्री एकनाथ शिंदे,  स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे, मुंबई की महापौर किशोरी पेडणेकर, आयुक्त प्रवीण परदेशी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव भूषण गगराणी व अन्य अधिकारी सहित जन प्रतिनिधि उपस्थित  थे। मुख्यमंत्री उद्घव ठाकरे की शुरु से ही यह भूमिका रही कि मुंबई के घोर गरीबों का इलाज करने वाला वाडिया अस्पताल बंद नहीं हो। मुख्यमंत्री ने राज्य शासन और मुंबई महानगरपालिका को वाडिया अस्पताल शुरु रखने के लिए आवश्यक निधि देने और अन्य मसलों पर आगामी 10 दिनों में बैठक लेकर नियमित रूप से अस्पताल शुरु रखने तथा  कर्मचारियों की नौकरी अबाधित रखने के निर्देश दिए। इसके पहले मनसे नेता शर्मिला ठाकरे ने उप मुख्यमंत्री अजित पवार से मुलाकात कर अस्पताल की समस्याएं रखी। राज्य  सरकार और मनपा की तरफ से मिलने वाला अनुदान बकाया रहने की वजह से वाडिया अस्पताल प्रबंधन ने दो अस्पतालों को बंद करने की प्रक्रिया शुरु कर दी थी। इस मामले में  शर्मिला ठाकरे ने आंदोलन भी किया था। वाडिया अस्पताल को चलाए रखने के लिए कुल 46 करोड़ रुपए उपलब्ध कराए जाएंगे, इसमें से 24 करोड़ रुपए राज्य सरकार की तरफ से,  जबकि 22 करोड़ रुपए मनपा प्रशासन की तरफ से दिए जाएंगे। नगरविकास मंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि यह अस्पताल किसी भी स्थिति में बंद नहीं होगा। परेल में मनपा की  जमीन पर वाडिया अस्पताल शुरु किया गया था। 1926 और 1928 में राज्य सरकार, वाडिया और मनपा के बीच करार हुआ था। इस करार के अनुसार विभाग के कपड़ा मिल मजदूरों के परिवारों के लिए 50 फीसदी बेड आरक्षित रखकर उनका मुफ्त में इलाज करने की शर्त रखी गई थी। हालांकि अब मिल मजदूर नहीं है, लेकिन पिछले कुछ वर्षों में  अस्पताल प्रबंधन कितने गरीब मरीज का मुफ्त में इलाज किया गया है, यह आंकडे नहीं दे रहा है। साथ ही 120-120 बेड से शुरु किए गए अस्पताल में बेड की संख्या 300 और  307 हो गई है। मनपा अधिकारियों का आरोप है कि राज्य सरकार और मनपा की मंजूरी के बिना बेड की संख्या बढ़ाई गई है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget