कश्मीर मुद्दा नहीं भूलेंगे : आइशी

Aishi Ghosh
नई दिल्ली
जेएनयूएसयू प्रेजिडेंट आइशी घोष ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून(सीएए) के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन के बीच कश्मीर का मुद्दा नहीं छोड़ा जाएगा। उन्होंने इसके साथ ही केंद्र की  मोदी सरकार पर संविधान को छीनने के भी आरोप लगाए। सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का सिलसिला बुधवार को भी जारी रहा और बुधवार को जेएनयू स्टूडेंट्स जामिया  मिल्लिया इस्लामिया के बाहर जुटे जहां आइशी ने यह बात कही।
आइशी ने कहा कि हम इस लड़ाई में कश्मीर का मुद्दा नहीं छोड़ सकते और न ही उनकी बात भूल सकते हैं। उनके साथ जो हो रहा है, कहीं न कहीं वहीं से ही सरकार ने शुरू किया  था कि हमारे संविधान को हमसे छीना जाए। उल्लेखनीय है कि गत 5 अगस्त को केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 के ज्यादातर प्रावधानों को हटा दिया और इसे दो  केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया। सुरक्षा कारणों से कुछ प्रतिबंध भी लगाए थे जिसे धीरे-धीरे हटाया जा रहा है।
आइशी घोष ने कहा कि हमें डरने की जरूरत नहीं है, बल्कि शाहीन बाग की हिम्मती महिलाओं से प्रेरणा लेने की जरूरत है। दिल्ली पुलिस ने जामिया यूनिवर्सिटी के अंदर घुसकर  छात्रों से हिंसा की है। यहां लाइब्रेरी पुलिस द्वारा तोड़ी गई। सीएए और एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में पुलिस मस्जिद और लाइब्रेरी कैसे तोड़ सकती है। इस पर हम चुप नहीं  बैठेंगे।
दरअसल पुलिस कार्रवाई के विरोध में बुधवार को जामिया में हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी इकठ्ठा हुए। एम्स के डॉ टरों, विभिन्न अदालतों के वकीलों, एनएसयूआई, आइसा,  जेएनयू छात्रसंघ, एएमयू, डीयू, बीएचयू के छात्रों सहित देशभर के 20 से अधिक संगठनों ने 'आज चलो जामिया' की कॉल दी थी।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget