रेत माफियाओंपर गिरी गाज

ठाणे
ठाणे में रेत माफियाओं पर गाज गिरने का मामला प्रकाश में आया है। ठाणे जिला प्रशासन ने खाड़ी में अवैध तरीके से रेत उत्खनन करने वाले माफियाओं पर बड़ी कार्रवाई की है।  इस कार्रवाई में करोड़ों रुपए मुल्य के 34 सेक्सन पंप और 25 बार्ज को जेसीबी की मदद से मौके पर ही तोड़ दिया गया। इसी क्रम में रेत भंडारण के लिए उपयोग में लाए जाने वाले  50 स्टोरेज टैंक को भी नष्ट कर दिया गया। इसके साथ ही 330 ब्रास रेत भी जक्त किया गया है। यह कार्रवाई सोमवार को भारी पुलिस बंदोबस्त में जिला प्रशासन के 14  अधिकारियों और कर्मचारियों सहित 150 लोगों की टीम ने अंजाम दिया है। कार्रवाई के बाद रेत माफियाओं में खलबली मच गई है।
उल्लेखनीय है कि जिला प्रशासन को लगातार शिकायतें मिल रही थीं कि मुंब्रा पारसिक, कलवा रेती बंदर, काल्हेर रेती बंदर, वडूनवघर, खारबाव, वेहले, उल्हास नदी, टेभा, तानसा  आदि से अवैध तरीके से रेत उत्खनन की जा रही हैं। इसके बाद से ही जिला प्रशासन ने यहां की गतिविधियों पर बारिकी से नजर रखना शुरू कर दिया था। इतना ही नहीं शिकायतों  को गंभीरता से लेते हुए सोमवार को जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर के मार्गदर्शन और अतिरिक्त जिलाधिकारी वैदेही रानडे के नेतृत्व में की गई छापेमारी में 34 सेक्सन पंप और 25  बार्ज को जक्त कर उन्हें मौके पर ही तोड़ दिया गया। इसी क्रम में रेत भंडारण के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले 50 स्टोरेज टैंक को भी नष्ट कर दिया गया। इतना ही नहीं कार्रवाई  के दौरान टीम ने 330 ब्रास रेत भी बरामद किया। कार्रवाई के दौरान बरामद रेत और नष्ट की गई मशीनों की किमत छह करोड़ 48 लाख रुपए के आसपास बताई गई है। अंबरनाथ  और शहापुर में स्थित नदी से भी रेत उत्खनन किए जा रहे थे। यहां भी टीम ने छापा मारते हुए कार्रवाई की। छापेमारी के दौरान खुद अपर जिलाधिकारी वैदेही रानडे उपस्थित थीं।  इसी के तहत सोमवार को ठाणे के तहसीलदार अधिक पाटिल, भिवंडी के तहसीलदार शशिकांत गायकवाड, कल्याण के तहसीलदार दिपक आकडे, शहापुर की तहसीलदार नीलिमा  सूर्यवंशी, अंबरनाथ के तहसीलदार जयराज देशमुख, उल्हासनगर के तहसीलदार विजय वाकोडे, रेतीगट के तहसीलदार मुकेश पाटिल, खनिजकाम अधिकारी मनोज मेश्राम और अन्य  छह अधिकारियों के साथ राजस्व विभाग के 150 लोगों की टीम ने रेत माफियाओं पर कार्रवाई की। इस कार्रवाई के बाद रेत माफियाओं में खलबली मच गई है। जिला प्रशासन के  अधिकारियों ने बताया कि सेक्सन पंप खाड़ी के बीच में थे, जिसे कड़ी मशक्कत के बाद किनारे लाया गया और जेसीबी और गैस कटर की मदद से उसे समूल नष्ट कर दिया गया।  दूसरी ओर कहा जा रहा है कि कार्रवाई की भनक लगते ही टीम के पहुंचने से पहले रेत माफिया मौके से फरार हो गए। जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर ने कहा कि रेत माफियाओं के  खिलाफ जिला प्रशासन ने कठोर कदम उठाएं हैं। उन्होंने साफ तरीके से यह भी संकेत दिया है कि रेत माफियाओं पर आगे भी इसी तरह की कार्रवाई जारी रहेगी।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget