माखी कांड दुष्कर्म पीड़िता के पिता का मेडिकल करने वाले डॉक्टर की मौत

उन्नाव
माखी गांव की दुष्कर्म पीड़िता के पिता का इलाज करने के दौरान हंसने को लेकर सुॢखयों में आने के बाद कई माह निलंबित रहे डॉ. प्रशांत उपाध्याय की असमय मौत हो गई। सोमवार को  अचानक हालत बिगड़ने पर पत्नी उन्हें जिला अस्पताल लेकर पहुंची, जहां ईएमओ डॉ. एसके त्रिपाठी ने परीक्षण के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया। पत्नी के अनुसार वह काफी समय से शुगर  और फ्लडप्रेशर की बीमारी से पीड़ित थे। मूलत: सुल्तानपुर निवासी डॉ. प्रशांत लखनऊ के राजाजीपुरम ई-फ्लाक में रह रहे थे।
साल 2010 में उनकी तैनाती उन्नाव में हुई थी। उसके बाद तीन वर्ष पूर्व उन्हें जिला अस्पताल के ट्रामा सेंटर में ईएमओ का जिम्मा मिला था। साल 2018 में हुएमाखी कांड की दुष्कर्म पीड़िता के  पिता को पिटाई के बाद जब अस्पताल लाया गया, तो उस समय ईएमओ ड्यूटी पर रहे डॉ. प्रशांत ने इलाज किया था। इस दौरान हंसते हुए वीडियो वायरल होने पर उन्हें शासन ने निलंबित कर  दिया था। आठ माह पूर्व उन्हें बहाल करईएमओ फतेहपुर बनाया गया था। तबसे वह पत्नी गरिमा और इकलौते पुत्र विहान के साथ यहां मोहल्ला मोतीनगर में रह रहे थे। गरिमा के मुताबिक पति  काफी दिनों से शुगर, फ्लड प्रेशर और किडनी की बीमारी से पीड़ित थे। करीब एक माह से अवकाश पर थे। मंगलवार की सुबह सांस लेने में तकलीफ होने पर उनकी हालत बिगड़ी। जिला अस्पताल लाने पर डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। दिवंगत डॉ. प्रशांत के शव का दो डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराया गया।
पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मल्टी ऑर्गन फेल्योर होने से मौत होने की पुष्टि हुई है। फेफड़ों और पेट में पानी के अलावा एनीमिया और हार्ट बढ़ा मिला है। सेप्टीसीमिया भी पाया गया है। माखी कांड की  दुष्कर्म पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में मृत डॉक्टर प्रशांत उपाध्याय सीबीआई के गवाह भी थे। अस्पताल सूत्रों के अनुसारदुष्कर्म पीड़िता के पिता के साथ की गई मारपीट के बाद जब उन्हें  मेडिकल परीक्षण के लिए इलाज को जिला अस्पताल लाया था, तो पहले दिन डॉ. प्रशांत की ही ईएमओ ड्यूटी थी। उन्होंने उसका मेडिकल किया था। सीबीआई ने उनसे कई चक्र में मेडिकल को लेकर पूछताछ की थी। सीबीआई की सिफारिश पर ही विभागीय जांच के बाद उन्हें निलंबित किया गया था। हालांकि जांच के बाद उन्हें बहाल कर दिया गया था। सूत्रों के अनुसार दुष्कर्म पीड़िता  के मृत पिता का उन्होंने मेडिकल किया था इससे सीबीआई ने उन्हें गवाह बनाया था।

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget