पाक से आए हर शरणार्थी को नागरिकता देने तक नहीं लेंगे चैन : शाह

Amit Shah
जबलपुर
नागरिकता संशोधन कानून को लेकर आक्रामक तेवर दिखाते हुए होम मिनिस्टर अमित शाह ने कहा कि पाकिस्तान से प्रताड़ित होकर आए सभी लोगों को भारत की नागरिकता देने  तक हम आराम से नहीं बैठेंगे। एक्ट का विरोध कर रहे विपक्ष पर बरसते हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस वालों आप सीएए का जितना चाहें विरोध करें, लेकिन  पाक से उत्पीड़न का शिकार होकर आए हर व्यक्ति को भारत की नागरिकता देने तक हम शांत से नहीं बैठेंगे। उन्होंने कहा कि ऐसे सभी लोगों को सिटिजनशिप देने के बाद ही हम  आराम करेंगे। इससे हमें कोई नहीं रोक सकता। कांग्रेस शासित राज्य मध्य प्रदेश में रैली करते हुए उन्होंने कहा कि भारत में पाकिस्तान से उत्पीड़न के चलते आए हिंदू, सिख, जैन,  बौद्ध, ईसाई और पारसी शरणार्थियों के उतने ही अधिकार हैं, जितने हमारे हैं। भाजपा चीफ ने इस दौरान 4 महीने में राम मंदिर निर्माण का काम शुरू होने की भी बात कही। अमित  शाह ने राहुल गांधी और ममता बनर्जी को चुनौती दी कि वे सीएए का एक प्रावधान बताएं, जिससे किसी की नागरिकता जाती है। सीएए के मुद्दे पर कांग्रेस के अलावा तृणमूल कांग्रेस  चीफ ममता बनर्जी भी लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर हैं। इसी के चलते अमित शाह ने जबलपुर में कहा कि मैं राहुल बाबा और ममता बनर्जी को चुनौती देता हूं कि वे सीएए का  एक ऐसा प्रावधान बताएं, जिससे किसी की नागरिकता जा रही हो। शाह ने कहा कि मैं बताने आया हूं कि सीएए में कहीं पर भी किसी की नागरिकता छीनने का प्रावधान नहीं है, इसमें नागरिकता देने का प्रावधान है।

शरणार्थी हमारे भाई हैं, नागरिकता देकर ही रहेंगे
अमित शाह ने सीएए के मुद्दे पर पीछे ना हटने की बात पर जोर देते हुए कहा कि कांग्रेस वालों कान खोल कर सुन लो, जितना विरोध करना है करो, ये सारे लोगों को नागरिकता   देकर ही हम दम लेंगे। भारत पर जितना अधिकार मेरा और आपका है, उतना ही अधिकार पाकिस्तान से आए हुए शारणार्थियों का है। वे भारत के बेटा-बेटी हैं, वे हमारे भाई हैं।

कांग्रेस ने धर्म के आधार पर किया देश का बंटवारा
कांग्रेस पर हमला बोलते हुए शाह ने कहा कि जब देश का बंटवारा हुआ तब कांग्रेस पार्टी ने देश का बंटवारा धर्म के आधार पर किया। बंटवारे के समय पूर्वी और पश्चिमी पाकिस्तान  से हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई को भारत आना था, मगर उस समय स्थिति सही नहीं होने के कारण वे वहीं रह गए। हमारे देश के सभी नेताओं ने आश्वासन दिया कि  आप अभी वहां रह जाइए और आप जब भी कभी भारत आएंगे तो आपका स्वागत किया जाएगा।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget