महाराणा प्रताप की लगेगी आदमकद प्रतिमा

पटना
बिहार की सियासत जाति बेहद अहम है। राजनीतिक दल चाहे किसी भी मुद्दे को उठाए, लेकिन चुनाव तक आते-आते जाति की राजनीति तमाम मुद्दों पर भारी पड़ जाती है। इसी  साल अक्टूबर-नवंबर में विधानसभा चुनाव होने वाला है। ऐसे में इसकी शुरुआत महाराणा प्रताप के शौर्य दिवस के बहाने जेडीयू ने कर दी।  राजधानी पटना के मिलर स्कूल में    आयोजित स्मृति समारोह में बड़ी संख्या में राजपूत समुदाय के लोग मौजूद थे। उनके सामने जेडीयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने सीएम नीतीश के सामने मांग की कि पटना में  महाराणा प्रताप की प्रतिमा लगे और उनकी पुण्यतिथि सरकारी समारोह के तौर पर मनाई जाए। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री ने कहा कि यह कौन नहीं जानता कि  महाराणा प्रताप ने कभी हार स्वीकार नहीं की। अपने फायदे के लिए नहीं, बल्कि समाज के हर तबके के हित और अधिकार के लिए जीवन में संघर्ष किया। किसी भी परिस्थिति में  सिद्धांतों से समझौता नहीं किया। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर समाज में एकजुटता की बात दोहराई। उन्होंने कहा कि टकराव से बचना चाहिए। मुख्यमंत्री नीतीश ने कहा कि जिन्होंने  समाज को प्रेरणा दी है, उन्हें याद रखना है। महाराणा प्रताप की स्मृति से युवा पीढ़ी को प्रेरणा मिलेगी। महाराणा प्रताप के आचरण से सभी को सीखना चाहिए। अगर कोई देश के  इतिहास को जानना चाहता है, तो उसे महाराणा प्रताप के इतिहास को जानना चाहिए। उनके संघर्ष से सबक सीखना चाहिए। सीएम ने कहा कि जब वह सांसद थे, तो हल्दीघाटी गए थे और वहां की मिट्टी का तिलक लगाया था
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget