वाडिया अस्पताल हो सकता है बंद!

Wadia Hospital
मुंबई
पिछले हफ्ते से वाडिया अस्पताल ने मरीजों को एडमिट करने की प्रक्रिया बंद कर दी है। अस्पताल प्रशासन का कहना है कि अनुदान के अभाव से वैद्यकीय सेवा और दवाइयां आदि  सुविधा देनेवाले वेंडर्स को पैसे नहीं दिए गए हैं। अनेक बिल भी बाकी हैं इसी वजह से मरीजों की सेवा धीरे-धीरे रुकाने के अलावा और कोई पर्याय उपलब्ध नहीं है। इसके बाद अब मरीजों को एडमिट नहीं किया जाएगा। दो से तीन दिन और भी दवाइयां लोगों मिल सकती है, इतनी ही उपलब्धता है और अनुदान से जुड़ा हुआ प्रश्न भी अभीतक हल नहीं हुआ है।  इसलिए घाटे में अस्पताल चलाना मुश्किल है। जानकारी के मुताबिक अस्पताल द्वारा बोन मेरो प्रत्यारोपण, हृदय शस्त्रक्रिया के साथ-साथ छोटे बच्चों की न्यूरो सर्जरी के साथ,  ऑपरेशन विभाग, फ्रैक्चर, हेमोटाइड एनकोलॉजी विभाग भी बंद कर दिए गए हैं। प्लास्टिक सर्जरी और पॅथालॉजी विभाग भी पिछले हफ्ते से ताला लगा दिया गया है। अस्पताल प्रशासन द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक दवाई विक्रेता और वैद्यकीय सुविधा पहुंचानेवालों के करोड़ों रुपए बकाया हैं। इस वजह से यह निर्णय लिया गया है। मरीजों को असुविधा  हो ऐसी इच्छा न होने के बावजूद भी यह निर्णय लेना पड़ रहा है, ऐसा अस्पताल की संचालक डॉ. मिनी बोधनवाला का कहना है। आपातकालीन परिस्थिति में जो दवाइयां दी जाती  हैं, उसमें भी बड़े पैमाने पर कमी आ गई है। दवाइयां और वैद्यकीय सुविधाओं के बिना लोगों का उपचार कैसे किया जाए ऐसा भी उन्होंने कहा है। पिछले महीने मनपा द्वारा 14  करोड़ दिए गए थे, जिसमें से 1500 कर्मचारियों का रुकाया हुआ पगार दिया गया। 2017 से मनपा के पास 136 करोड़ रुपए आने बाकी हैं। बकाया अनुदान देकर अस्पताल चले, ऐसी  मांग सभी पार्टियों के नगरसेवकों ने किया था। अस्पताल की 40 प्रतिशत जगह मनपा की होने के बाद अस्पताल चलने के लिए मनपा की तरफ से अनुदान दिया जाता है, लेकिन  जगह और अनुदान देने के बाद भी अस्पताल प्राइवेट तरीके से चलाया जाता है। अनुदान देने के बाद भी मरीजों को उत्तम सुविधा नहीं मिलती है। इस वजह से यह अस्पताल मनपा  को चलाने के लिए दिया जाए, ऐसी मांग मनपा प्रशासन ने किया है। मनपा और वाडिया प्रशासन के बीच दिया जानेवाला अनुदान रुका हुआ है। इस वजह से वाडिया अस्पताल बंद  होने के कगार पर आ चुका है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget