हिंद महासागर में चीन की गतिविधियां बढ़ीं : नेवी चीफ

Karambeer Singh
नई दिल्ली
हिंद महासागर में चीनी की गतिविधियां बढ़ रही हैं और भारतीय नौसेना इसे करीबी से देख रही है। यह बातें नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने बुधवार को कही। दिल्ली में हो  रहे रायसीना डायलॉग में एक पैनल चर्चा में उन्होंने कहा कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के युद्धपोतों द्वारा कई बार हमारे एसलूसिव इकोनॉमिक जोन में घुसने की घटनाएं हुई  हैं। नौसेना प्रमुख ने कहा कि यह हमारे हितों का अतिक्रमण है और नौसेना इस बारे में सजग है। दरअसल हिंद महासागर में चीन की बढ़ती ताकतों को देखते हुए भारतीय नौसेना  युद्धस्तर पर रणनीति तैयार कर रही है। हिंद महासागर में भारत को चुनौती देने वाला एक ही राष्ट्र चीन है, जो साम्राज्य विस्तार की नीति में भरोसा रखता है। ऐसे में भारत ने भी  खुद को मजबूत करने की तैयारी तेज कर दी है। भारतीय नौसेना पानी के अंदर परमाणु हमले करने वाली पनडुब्बी का बेड़ा तैयार करने जा रही है।

छह एसएसएन पनडुब्बियों के निर्माण की तैयारी में देश

रक्षा संबंधी स्थाई समिति ने इस संबंध में शीतकालीन सत्र के दौरान संसद में एक रिपोर्ट जमा की थी, जिसके मुताबिक नौसेना 18 (पारंपरिक) और छह एसएसएन (परमाणु हमले  में सक्षम) पनडुब्बियों के निर्माण की तैयारी कर रही है। लेकिन नौसेना की मौजूदा ताकत 15 है और एक एसएसएन लीज पर उपलब्ध है। ऐसे में भारतीय नौसेना ने अरिहंत लास  एसएसबीएन के साथ मिलकर परमाणु हमला करने वाली छह पनडुब्बी बनाने की योजना तैयार की है। सभी पनडुब्बियां परमाणु मिसाइलों से लैस होंगी।

चीन के अतिक्रमण पर  नौसेना की नजर
भारतीय नौसेना, प्रोजेट 75 इंडिया के तहत छह नई पनडुब्बियों के निर्माण की योजना पर भी काम कर रही है। इसके तहत भारतीय नौसेना, विदेशी मूल की उपकरण निर्माताओं के  साथ मिलकर छह पारंपरिक पनडुब्बी का निर्माण करेगी।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget