बच्चों के लिए जरूरी हैं ये सुपर फूड, बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेंट

Food
केला
लोगों के बीच ये मिथक है कि केले की तासीर ठंडी होती है, इसीलिए इसे बच्चों को कम खिलाना चाहिए, लेकिन आपको बता दें कि ऐसा कुछ भी नहीं है। कई रिसर्च में खुलासा हो  चुका है कि केला कभी भी सर्दी- खांसी की वजह नहीं बनता है। इसीलिए इसे बच्चों की डाइट में हमेशा शामिल करें।

हरी सब्जियां
बच्चे के दिमाग के विकास के लिए उसे हरी और पत्तेदार सब्जियां खिलाइए। बच्चे को आप छह महीने के बाद ठोस आहार दे सकते हैं, इसलिए छह महीने के बाद आप उसके खाने  में पालक, पत्तागोभी आदि शामिल कीजिए। हरी और पत्तेदार सब्जियों में ओमेगा-3 फैटी एसिड भी पाया जाता है, जो दिमाग के विकास के लिए जरूरी है।

अखरोट खिलाइए
अखरोट खाने से दिमाग तेज होता है, इसे आप अपने बच्चे को खिला सकते हैं। अखरोट को सुबह के नाश्ते, दिन में स्नैक्स आदि के साथ दे सकते हैं। अखरोट में ओमेगा-3 फैटी  एसिड के अलावा फाइबर, विटामिन बी, मैग्नीशियम और एंटी ऑक्सीडेंट्स अधिक मात्रा में होते हैं। इसलिए बच्चे के डायट चार्ट में इसे जरूर शामिल कीजिए। इसके अलावा बच्चे को  सूखे मेवे जैसे - किशमिश, बादाम आदि दे सकते हैं।

मछली खिलाइए
नौ महीने के बाद आप बच्चे को मांस और मछली खिला सकते हैं। बच्चों के दिमाग के पूर्ण विकास के लिए मछली का सेवन कराइए। इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है। समुद्री  मछलियों जैसे - मैकेरेल, टुना, सारडाइंस और सालमल आदि में ओमेगा-3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए मां को गर्भावस्था के दौरान ही इनका सेवन करना  चाहिए और बढ़ते बच्चे को भी इसे खिलाना चाहिए।

दूध और दही
बच्चों के दिमागी विकास के लिए दूध और दही दीजिए। दही दिमाग के सेल्स को लचीला बनाता है और इससे सिग्नल लेने और उस पर तुरंत प्रतिक्रिया करने की छमता बढ़ती है। 

फैट फ्री मिल्क
प्रोटीन, विटामिन डी और फॉस्फोरस का भंडार होता है, जो दिमाग के लिए जरूरी है।

घी
डीएचए से भरपूर घी बच्चों के दिमागी विकास के लिए बहुत अच्छा होता है। साथ ही इसमें मौजूद फैट, एंटीफंगल, एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटीबैक्टिरियल प्रोपर्टीज बच्चों की आइसाइट, इम्यूनिटी और डाइजेशन बेहतर बनाती है। विटामिन्स बच्चों की बोन्स को स्ट्रांग बनाते हैं
बच्चों को फास्ट फूड और जंक फूड बिल्कुल मत दीजिए, इसमें दिमाग के विकास के लिए जरूरी पौष्टिक तत्व नहीं होते हैं। बच्चों का डाइट चार्ट बनाते वक्त चिकित्सक से सलाह  अवश्य लीजिए।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget