निर्भया केस : एक फरवरी को होगी फांसी

नई दिल्ली
निर्भया के दोषियों के नाम जारी डेथ वारंट के अनुसार एक फरवरी को फांसी दी जानी है। अब जबकि फांसी के लिए तय दिन में नौ दिन से कम का वक्त रह गया है, जेल प्रशासन  फांसी से पहले की प्रक्रिया को पूरा करने में जुट गया है। दोषियों को फांसी पर लटकाने की तिथि के बारे में जेल प्रशासन ने इनके रिश्तेदारों को पत्र लिखकर जानकारी दे दी है।

नहीं मिला तिहाड़ जेल प्रशासन को परिजनों का जवाब
पत्र में लिखा है कि कोर्ट द्वारा जारी डेथ वारंट के आदेशानुसार इन्हें एक फरवरी को सुबह छह बजे फांसी पर लटकाया जाएगा। यदि वे चाहें तो दोषियों से अंतिम मुलाकात कर  सकते हैं। जेल प्रशासन को इस पत्र के बाद से किसी भी रिश्तेदार की ओर से अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है।

चारों दोषियों पर रखी जा रही नजर
तिहाड़ जेल अधिकारियों को  सबसे बड़ी चिंता इनकी सुरक्षा को लेकर है। सुरक्षा के लिए जेल मेनुअल में फांसी की सजा पाए दोषियों के लिए निर्धारित सभी बातों पर अमल किया  जा रहा है। दोषियों की सुरक्षा किस कदर बढ़ा दी गई है कि इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अब निर्भया के दोषियों के सेल को रोजाना बदला जा रहा है। इन्हें  ऐसे सेल में रखा जा रहा है जहां बाहर मौजूद सुरक्षाकर्मी को इनके सेल का चप्पा चप्पा आसानी से नजर आए। जिस सेल में इन्हें रखा जाता है, उस सेल की जांच खुद जेल  उपाधीक्षक आकर करते हैं।

चारों दोषियों का बैरक एक, मगर सेल अलग-अलग
वहीं, जांच के दौरान यह देखा जाता है कि सेल में सुरक्षा को लेकर व्यापक इंतजाम हैं या नहीं। यह भी विशेष तौर पर देखा जाता है कि क्या इस सेल में ऐसी कोई संरचना तो नहीं  है, जिसकी मदद से दोषी खुदकशी करने की कोशिश को अंजाम दे सकता है। पूरी तरह तसल्ली के बाद ही उपाधीक्षक दोषी को सेल में रखने की अनुमति प्रदान करते हैं। बाहर जो  सुरक्षाकर्मी मौजूद रहता है उसे साफ हिदायत है कि अंदर मौजूद दोषी से कोई बात नहीं करे। यदि दोषी को सेल से बाहर निकालना ही पड़े, तो निकालने से पहले यह सुनिश्चित कर  लिया जाए कि वहां पर्याप्त संख्या में सुरक्षाकर्मी मौजूद हों। जेल अधिकारियों का कहना है कि चारों दोषी को एक ही बैरक लेकिन अलग अलग सेलों में रखा गया है।

सुबह-शाम हो रही चारों के स्वास्थ्य की जांच
बता दें कि कुछ ही दिन पहले चारों दोषियों अक्षय, विनय, पवन व मुकेश को उनके जेलों से स्थानांतरित कर जेल संख्या तीन के हाई सिक्योरिटी सेल में रखा गया है। इसी जेल में  फांसी घर भी है। इनके सेल में रोजाना चिकित्सक पहुंचकर इनकी स्वास्थ्य जांच कर रहे हैं। सुबह व शाम के समय इनकी स्वास्थ्य जांच होती है। इस दौरान इनका वजन हर बार  किया जाता है।

डाइट चार्ट के हिसाब से दिया जा रहा खाना
जेल प्रशासन ने डायटिशियन की सलाह पर एक डाइट चार्ट दोषियों के लिए बना दिया है। डाइट चार्ट के हिसाब से ही इन्हें भोजन दिया जा रहा है। काउंसिलिंग के दौरान दोषियों को  इस बात की सलाह विशेष तौर पर दिया जा रहा है कि वे अपना खानापान सामान्य रखें। किसी भी सूरत में खाना नहीं छोड़ें।

बीच-बीच में कराई जा रही चारों की काउंसलिंग
वहीं, काउंसिलिंग के दौरान चिकित्सक इन्हें इस बात की सलाह देते हैं कि वे अपने व्यवहार को सामान्य बनाए रखें ताकि दिमाग पर ज्यादा जोर न बनें। जेल सूत्रों का कहना है कि  दोषियों के व्यवहार में डेथ वारंट जारी होने के बाद से थोड़ी तबदीली आई है जिसे देखते हुए चारों की काउंसिलिंग कराई जाती है।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget