लगातार दूसरे महीने कोर सेक्टर की ग्रोथ में आई तेजी

Construction Work
नई दिल्ली
दिसंबर के बाद लगातार दूसरे महीने कोर सेक्टर ग्रोथ में तेजी आई है। जनवरी 2020 में कोर सेक्टर की ग्रोथ बढ़कर 2.2 फीसदी हो गई है। वहीं इससे पहले दिसंबर 2019 में कोर  सेक्टर की ग्रोथ 2.1 फीसदी रही थी। आठ बुनियादी सेक्टर्स में कोयला, कच्चा तेल, नेचुरल गैस, रिफाइनरी उत्पाद, फर्टिलाइजर्स, स्टील, सीमेंट तथा इलेक्ट्रिसिटी शामिल हैं। अगर   आसान शब्दों में कहें तो कोयला, कच्चा तेल, फर्टिलाइजर्स, स्टील, पेट्रो रिफाइनिंग, बिजली और नेचुरल गैस इंडस्ट्री को किसी अर्थव्यवस्था की बुनियाद माना जाता है। यहीं आठ   सेक्टर कोर सेक्टर कहे जाते हैं। इनकी ग्रोथ दर में कमी या बढ़ोतरी बताती है कि किसी देश की अर्थव्यवस्था की बुनियादी हालत क्या है। सरकार हर महीने कोर सेक्टर ग्रोथ के आंकड़े जारी करती है। यह आंकड़े इन आठों सेक्टर्स में उत्पादन की तस्वीर सामने रखते हैं। औद्योगिक उत्पादन को मापने के बेंचमार्क आईआईपी में कोर सेक्टर की 38 फीसदी  हिस्सेदारी है। नवंबर 2019 में कोर सेक्टर में 0.6 फीसदी गिरावट रही थी। वहीं, इससे पहले अक्टूबर महीने में 5.8 फीसदी, सितंबर में 5.1 फीसदी और अगस्त में 0.2 फीसदी   गिरावट रही थी। चालू कारोबारी साल के पहले नौ महीने (अप्रैल-दिसंबर 2019) में कोर सेक्टर की औसत विकास दर 0.2 फीसदी रही। वहीं, अब नए साल यानी जनवरी में यह 2.1  फीसदी से बढ़कर 2.2 फीसदी हो गई है। किस वजह से बढ़ी कोर सेक्टर में ग्रोथ- एक्सपर्ट्स का  कहना है कि क्रूड कीमतों में आई गिरावट का फायदा घरेलू इंडस्ट्री को मिला है।  साथ ही, कोयला, रिफाइनरी और इलेक्ट्रिसिटी सेक्टर में भी ग्रोथ लौट आई है।अब क्या होगा- एसकोर्ट सिक्योरिटी के रिसर्च हेड आसिफ इकबाल ने बताया कि इन आंकड़ों का असर सोमवार को शेयर बाजार पर दिखेगा यानी तेजी आने की उम्मीद है। वहीं उनका मानना है कि इन आंकड़ों के बेहतर होने का संकेत अर्थव्यवस्था के लिए फायदेमंद है। आने वाले समय   में इसका सकारात्मक असर देश की आर्थिक विकास दर पर भी दिखेगा।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget