दो अलग-अलग घटनाओं के छह अभियुक्तों को उम्रकैद

भागलपुर
पंचम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश दीपांकर पांडेय ने कल्पना देवी हत्याकांड में पति समेत पांच अभियुक्तों को उम्रकैद की सजा सुनाई। न्यायाधीश ने अपने फैसले में अभियुक्तों को  दस-दस हजार रुपये का अर्थ दंड भी लगाया है। अर्थ दंड की राशि जमा नहीं करने की सूरत में पांचों अभियुक्तों को तीन-तीन माह की अतिरित कारावास काटनी होगी।  न्यायाधीश ने प्रताडऩा में भी सजा सुनाई है। जिन अभियुक्तों को सजा सुनाई गई है उनमें कल्पना के पति ब्रह्मदेव शर्मा, वकील शर्मा, परमेश्वर शर्मा,  राम प्रवेश शर्मा और निर्मला  देवी शामिल हैं। सरकार की ओर से एपीपी भोला कुमार मंडल ने बहस में भाग लिया। झारखंड के दुमका स्थित पोरोजोर गांव निवासी केदार शर्मा की पुत्री कल्पना की हत्या  दहेजलोभी ससुराल वालों ने 26 मार्च 2016 को कर दी थी। उसे कहलगांव अनुमंडल क्षेत्र के छोटी कारी कादो गांव में जला कर मार डाला गया था। शादी के एक माह बाद से ही  उसके पति सहित ससुराल के अन्य सदस्य कल्पना को अपने पिता से 50 हजार रुपए नकद और एक मोटरसाइकिल मांग कर लाने का दवाब दे रहे थे। इसके लिए उसे प्रताड़ित  करने लगे थे। उसकी हत्या में उसके पति सहित ससुराल के पांच सदस्यों की संलिप्तता तफ्तीश के क्रम में सामने आई थी। न्यायालय ने हत्या, दहेज के लिए प्रताड़ित कर मार  डालने में पांचों अभियुक्तों को पूर्व की सुनवाई में दोषी पाया था। सुल्तानगंज थाना क्षेत्र में 20 मई 2019 को नीतीश कुमार की हत्या में उसकी बहन नीलम कुमारी को अदालत ने  उम्रकैद दे दी है। अष्टम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश एमपी सिंह ने पूर्व में नीलम को हत्याकांड में दोषी पाया था। सरकार की ओर से अपर लोक अभियोजक जयकरण गुप्ता ने बहस में भाग लिया।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget