छपरा की रचना ने रक्तदान कर 23 लोगों की बचाई जान

छपरा
 महिला दिवस आने के साथ ही महिला सशक्तिकरण पर पूरे देश में चर्चा की जाती है। सशक्त और स्वावलंबी महिलाओं की कई कहानियां हमारे सामने नजर आती हैं। ऐसी ही कहानियों में  शामिल है छपरा के रचना पर्वत की कहानी। रचना ने रक्तदान के जरिए अब तक 23 लोगों को रक्तदान कर उनकी जिंदगी बचाई है। दरअसल छपरा की रचना को अपनी मां के लिए खून की जरूरत महसूस हुई, तो उसे खून पाने में काफी दिक्कतें हुईं थीं। इसके बाद रचना ने खून के महāव को समझा और रेगुलर ब्लड डोनर बन गई। रचना ने अब तक 23 से अधिक लोगों के लिए  रक्तदान किया है। जिले के प्रभुनाथ नगर मोहल्ले की रहने वाली रचना पर्वत को जिले में भला कौन नहीं जानता। जब भी किसी को रक्त की जरूरत होती है, तो रचना दीदी को जरूर याद करता है। सबसे खास बात ये कि रचना के प्रयास से उनकी कई सहेलियां भी रक्तदान कर रही हैं। 
रचना के इस प्रयास को कई सामाजिक संगठनों ने सराहा है और रचना को सम्मानित भी किया है।  अब तक 23 लोगों को रक्तदान कर चुकी रचना ने कई लोगों को रक्तदान के प्रति प्रेरित किया है और छपरा के ब्लड बैंक में रचना के प्रयास से कई लड़कियां रेगुलर ब्लड डोनर बन चुकी है। रचना के इस प्रयास को कई सामाजिक संगठनों ने सराहा है और उन्हें सम्मानित भी किया है। रचना ने बताया कि रक्तदान करना उनके जीवन का मकसद तो है ही साथ ही इसके प्रति  गरुकता  फैलाना भी उनके जीवन का मकसद बन गया है ताकि अधिक से अधिक लोग रक्तदान से जुड़ सकें।वहीं, रचना की सहेली टिंवकल ने बताया कि रचना को देखते हुए उनकी कई सहेलियां रक्तदान के प्रति जागरुक हो रही हैं और नियमित रूप से रक्तदान करती हैं, ताकि किसी जरूरतमंद को इसका फायदा मिल सके।मीना कुमारी का कहना है कि रक्तदान को जीवनदान कहा जाता है इसके  बावजूद आज भी समाज में रक्तदान को लेकर कई भ्रांतियां है। इन भ्रांतियों को दूर करने के लिए ही रचना पर्वत और उनकी सहेलियों ने अपने जन्मदिन पर ब्लड बैंक में रक्तदान के जरिए  अपना जन्मदिन मनाती हैं। ब्लड बैंक के कर्मचारी भी इन लड़कियों के प्रयास की सराहना करते नहीं थकते। ब्लड बैंक के कर्मचारी धर्मवीर कुमार बताते हैं कि इन लड़कियों ने अपना डोनर कार्ड  बनवाया है और जरूरत पड़ने पर जरूरतमंद इन लड़कियों से संपर्क करते हैं और ये लड़कियां खुशी-खुशी आकर रक्तदान करती है। 
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget