सीतामढ़ी में 437 हड़ताली शिक्षकों पर गिरी गाज

सीतामढ़ी
 बिहार में एक तरफ जहां नियोजित शिक्षकों की हड़ताल जारी है वहीं दूसरी तरफ उनके ऊपर कार्रवाई की प्रकिया भी लगातार जारी है। ताजा मामला सीतामढ़ी जिले का है, जहां मूल्यांकन कार्य  में बाधा डालने के आरोप में 437 शिक्षकों पर गाज गिरी है। इस प्रक्रिया में कोताही बरतने वाले कई शिक्षकों को हटाया भी गया है। इस मामले की जानकारी देते हुए डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा  ने बताया कि हर हाल में इंटर की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन नौ मार्च तक पूरा किया जाना है। उन्होंने बताया कि जिले में मूल्यांकन कार्य चार केंद्रों पर चल रहा है। ऐसे 437 हड़ताली शिक्षक जो योगदान नहीं किए हैं उनके विरुद्ध अनुशासनिक कार्रवाई की जा रही है। 
इनमें कई को निलंबित भी किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि मूल्यांकन कार्य में प्रतिनियुक्ति के बावजूद  जिन शिक्षकों ने अपना योगदान नहीं दिया है, ऐसे 437 शिक्षकों के विरुद्ध थाने में प्राथिमिक दर्ज कराकर उन्हें निलंबित करने हेतु संबंधित नियोजन इकाइयों को अनुशंसा भेज दिया गया है।  जिलाधिकारी ने बताया कि सभी 4 मूल्यांकन केंद्रों पर विधि-व्यवस्था बनाए रखने हेतु धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दिया गया है, जिस किसी भी शिक्षक या अन्य व्यक्ति द्वारा ल्यांकन  कार्य को बाधित करने की कोशिश की जाएगी उसे गिर तार कर जेल भेज दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी मूल्यांकन केंद्रों पर सुरक्षा की पुब्ता व्यवस्था की गई है इसके लिए पर्याप्त संख्या  में सशस्त्र बलों के साथ दंडाधिकारी की तैनाती की गई है। उन्होंने कहा है कि राज्य सरकार द्वारा हड़ताली शिक्षकों के वेतन मान में सुधार के लिए आवश्यक कार्रवाई की जा रही है, इसलिए  हड़ताल में शामिल शिक्षकों को अपने-अपने कर्तव्य स्थल पर तुरंत योगदान कर शिक्षण एवं मूल्याकंन कार्य में सहयोग प्रदान करना चाहिए।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget