घर के दरवाजे पर उपद्रवियों ने मार दी गोली

मधुबनी
देश की राजधानी दिल्ली में हिंसा ने कई परिवारों की खुशियां छीन ली। ऐसा ही एक परिवार दिल्ली से करीब 1000 किलोमीटर दूर बिहार के मधुबनी जिले के बेनीपट्टी में है, जिसका  चिराग देश की राजधानी में फैली हिंसा की आंधी में हमेशा के लिए बुझ गया। मधुबनी में बेनीपट्टी थाना इलाके के सोहरौल इस्लामिया टोले में पिछले चार दिनों से पसरी मायूसी और खामोशी उस वक्त चीख पुकार में त दील हो गई, जब सोहरौल गांव निवासी मोहमद इब्राहिम के दरवाजे पर साइरन बजाती हुई एंबुलेंस आकर रुकी। एंबुलेंस में रखे ताबूत में मोहमद  इब्राहिम के जवान बेटे मोहमद मुबारक हुसैन का शव दिल्ली से लाया गया था। बुजुर्ग माता-पिता की जरूरतें और तीन छोटे भाइयों की अच्छी परवरिश का सपना लेकर दिल्ली की  मार्बल फैक्ट्री में नौकरी करने वाला मुबारक हुसैन बीते 25 फरवरी को दिल्ली के मौजपुर इलाके में दंगाइयों की गोली का शिकार हो गया। जिस वक्त यह घटना हुई उस वक्त मुबारक का एक भाई सदाकत हुसैन भी दिल्ली में ही था। सदाकत का कहना है कि 21 फरवरी को वो अपने भैया से मिलने दिल्ली पहुंचा था। दिल्ली में माहौल काफी खराब था  लिहाजा उन लोगों ने किसी अनहोनी की आशंका से मुबारक को घर से बाहर निकलने से मना किया था, लेकिन मोहल्ले में ही कोई जरूरी काम होने की बात कहकर वो घर से बाहर   निकलने वाला ही था कि दरवाजे पर ही भीड़ द्वारा की गई फायरिंग का शिकार हो गया।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget