वसई-विरावसई-विरार मनपा का आयुक्त पद दो महीने से खाली

पालघर
 वसई-विरार मनपा का आयुक्त पद दो महीने से खाली है। वसई तहसील में चहुमुखी विकास के उद्देश्य से अस्तित्व में आई वसई -विरार महानगरपालिका में दो महीने से मनपा आयुक्त की  युक्ति न होने से शहर की शा, कार्य और अधिकारियों तथा कर्मचारियों रा सुचारू रूप से काम समय पर न कर पाना, आम लोगों के लिए सिरदर्द बना हुआ है। इसके कारण आज शहर में बढ़ते  वैध निर्माणों पर तोडू कार्रवाई से लेकर मनपा का हर विभाग कामों के प्रति सुस्त दिखाई दे रहा है, जिसका खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है। ज्ञात हो कि वसई विरार शहर  नगरपालिका के तत्कालीन आयुक्त बलिराम पवार 31 दिसंबर 2019 को सेवानिवृत्त हो गए, जिसके बाद पालघर जिलाधिकारी डॉ.कैलास शिंदे को मनपा आयुक्त का अतिरिक्त कार्यभार दिया  या। लगभग दो महिने से ज्यादा समय हो चुके हंै, लेकिन शासन ने मनपा आयुक्त के लिए अब तक किसी की नियुक्ति नहीं की है। हाल ही में शासन द्वारा बड़े पैमाने पर आईएएस  कारियों   तबादला किया गया था, लेकिन उस तबादले की लिस्ट में वसई-विरार मनपा आयुक्त का नाम नहीं दिखाई दिया। मनपा का बजट कुछ ही दिनों में आने वाला है, वहीं नए आयुक्त की नियुक्ति न  ने से यह चर्चा का विषय बना हुआ है। बता दें कि मनपा और जिला दोनों की जिम्मेदारी जिलाधिकारी पर है। कार्य की व्यवस्था बिल्कुल चरमरा गई है। सुचारू रूप से कार्य नहीं हो पा रहे ।  स पर राज्य सरकार एवं प्रशासन को ध्यान देने की जरूरत , आगामी कुछ महीनों में मनपा के चुनाव होने जा रहे हंै। ऐसे में मुसीबतें और बढ़ेगीं। आखिकार शासन द्वारा मनपा के लिए नए  क्त  नियुक्ति करने में इतनी लेटलतीफ क्यों हो रही है। यह सवाल किए जा रहे हैं। नालासोपारा के स्थानीय नागरिक विनोद तिवारी का कहना है कि वसई विरार शहर महानगरपालिका में आयुक्त के  होने की वजह से कार्य की दिशा डगमगा गई है। आयुक्त के  होने के फायदा अवैध निर्माणकर्ता भरपूर उठा रहे हैं। वहीं भाजपा वसई विरार शहर जिला उपाध्यक्ष का कहना है कि दो महीने से  दा समय से मनपा का पूर्णकालीन आयुक्त नहीं है, जिसकी वजह से काम ठप पड़ा हुआ है।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget