अलसी में हैं कई बीमारियों को दूर भगाने के गुण

अलसी एक अमृतमयी चमत्कारी औषधी है, फ्लेक्स सीड्स, लिन सीड्स वगैरह इसके नाम हैं। अलसी से सभी परिचित होंगे, लेकिन इसके चमत्कारी फायदों के बारे में बहुत ही कम लोग जानते  होंगे। हम आज अलसी के फायदे के बारे में जो बता रहें हैं उनके बारे में जानकर और अपनाकर आप जरुर रोग मुक्त हो जाएंगे। अलसी शरीर को स्वस्थ रखती है और आयु बढ़ाती है। अलसी में 23 प्रतिशत ओमेगा-3 फेटी एसिड, 20 प्रतिशत प्रोटीन, 27 प्रतिशत फाइबर, लिगनेन, विटामिन बी ग्रुप, सेलेनियम, पोटेशियम, मेगनीशियम, जिंक आदि होते हैं। 
अलसी में रेशे भरपूर 27', पर शर्करा 1.8' यानी नगण्य होती है। इसलिए यह शून्यशर्करा आहार कहलाती है और मधुमेह रोगियों के लिए आदर्श आहार है। ब्लड शुगर : अगर किसी को ब्लड  गर, (डायबीटीज) की तकलीफ है, तो आपके लिये अलसी किसी वरदान से कम नहीं है। थाइरॉइड : सुबह खाली पेट दो चम्मच अलसी लेकर दो गिलासपानी में उबालें, जब आधा पानी बचे तब  छानकर पिएं। यह दोनों प्रकार के थाइरॉइड में बढ़िया काम करती है। हार्ट ब्लोकेज : तीन महिना अलसी का काढ़ा ऊपर बताई गई विधि के अनुसार करने से आपको एंजियोप्लास्टी कराने की जरुरत नहीं पड़ती। 

लकवा, पैरालिसीस : पैरालिसीस होने पर ऊपर बताई गई विधि से काढ़ा पीने से लकवा ठीक हो जाता है। बालों का गिरना : अलसी को आधा चम्मच रोज सुबह खाली पेट सेवन करने से बाल गिरने बंद हो जाते हैं।

जोडों का दर्द : अलसी का काढ़ा पीने से जोड़ों का दर्द दूर हो जाता है। साईटिका, नस का दबना वगैरह में लाभकारी। 

अतिरिक्त वजन : अलसी का काढ़ा पीने से शरीर का अतिरिक्त वजन दूर होता है। नित्य इसका सेवन करें, निरोगी रहें। कैंसर: किसी भी प्रकार के कैंसर में अलसी का काढ़ा सुबहशाम दो बार  पिएं, जिससे असाधारण लाभ निश्चित है।

पेट की समस्या : जिन लोगों को बार-बार पेट के जुड़े रोग होते हैं उनके लिए अलसी रामबाण इलाज है। अलसी कब्ज, पेट का दर्द आदि में लाभदायक है। आलस, कमजोरी: अलसी का काढा पीने  से सुस्ती, थकान, कमजोरी दूर होती है।

किसी भी प्रकार की गांठ : सुबह शाम दो समय अलसी का काढ़ा  बनाकर पीने से शरीर में होने वाली किसी भी प्रकार की गांठ ठीक हो जाती है।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget