कोरोना से डरने की जरूरत नहीं: मुख्यमंत्री

मुंबई
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर पूरे विश्व में डर का वातावरण है, लेकिन इससे डरने की जरूरत नहीं है। कोरोना वायरस से निपटने के लिए सरकारी  मशीनरी पूरी तरह सक्रिय है। मुख्यमंत्री विधानभवन में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। उनके साथ स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे, स्वास्थ्य संचालक प्रदीप व्यास, मनपा आयुक्त  प्रवीण परदेसी और महापौर किशोरी मौजूद थीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके पहले स्वाइन फ्लू और सार्स का प्रभाव था। कोरोना वायरस की पृष्ठभूमि पर लगातार अपडेट लिया जा  रहा है। मुंबई में मनपा मशीनरी सतर्कता से काम कर रही है। तीन जगह नागपुर, पुणे और मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल में टेस्ट की सुविधा है। कोरोना प्रभावित इलाकों से आए  यात्रियों की एयरपोर्ट पर जांच हो रही है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना का एक भी मरीज नहीं है। जिन 90 संदिग्ध मरीजों की जांच की गई, उनमें से 83 की रिपोर्ट निगेटिव  आई है। 7 लोगों की रिपोर्ट का अभी इंतजार किया जा रहा है।

हवा के जरिए नहीं फैलता विषाणु
स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि कोरोना के वायरस हवा में जिंदा नहीं रहते, वे कफ या छींक की बूंदों के साथ एक इंसान से दूसरे इंसान तक पहुंचते हैं। अगर मरीज से 3  फुट की दूरी बनाकर रखी जाए तो इससे बचा जा सकता है। उन्होंने कहा कि आम लोगों को मास्क लगाकर घूमने की जरूरत नहीं है। जो लोग संभावित मरीजों के संपर्क में आ  सकते हैं या उनका इलाज कर रहे हैं ऐसे लोगों को सभी सुरक्षा उपकरण मुहैया कराए गए हैं।

50 साल से अधिक उम्र वालों को खतरा अधिक
राज्य के स्वास्थ्य संचालक प्रदीप व्यास  ने बताया कि कोरोना के मरीज के साथ विमान की बगल की सीट पर बैछकर यात्रा करने वाले नागपुर के अमित पांडे को नागपुर मेडिकल  कॉलेज में दाखिल कराया गया है, लेकिन अब तक उन्हें बीमारी की पुष्टि नहीं हुई है। उन्हें एहतियातन अस्पताल में रखा गया है। व्यास ने बताया कि कोरोना से घबराने की जरूरत  नहीं है। इसके 98 फीसदी मरीज ठीक हो जाते हैं। 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए ही यह बीमारी ज्यादा घातक साबित हो रही है। कोरोना के कुल मरीजों में से 2  फीसदी  ही ऐसे हैं, जिनकी जान गई है। मुंबई में 1916 और 104 टोल फ्री नंबरों पर संपर्क किया जा सकता है।

बजट सत्र स्थगित करने की मांग
इसके पहले विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि कई विधायकों ने उन्हें फोन किया और मांग की है कि ज्यादा भीड़भाड़ के चलते कोरोना के खतरे को देखते हुए मौजूदा बजट  सत्र स्थगित कर दिया जाए और इसे 15 दिन बाद फिर शुरू किया जाए। उन्होंने कहा कि कई विधायकों ने कहा कि एयरकंडीशनर के चलते यह ज्यादा फैलता है। पटोले ने सरकार  को निर्देश दिए कि लोगों में कोरोना का डर दूर करने और जनजागृत मुहिम चलाई जाए। सदस्यों से सवालों के जवाब देते हुए उद्धव ने कहा कि कोरोना पूरी दुनिया के लिए चिंता का  विषय है। अब पुणे के साथ-साथ नागपुर और मुंबई में भी इस बीमारी की जांच की सुविधा है।

होली में न करें भीड़
उद्धव ने कहा कि जब स्वाइन फ्लू आया था, तक मैंने अपनी पार्टी से सभी मंडलों को दही हंडी उत्सव न करने को कहा था, जिसे सभी ने माना था। माना जाता है कि अमंगल होली  में जल जाता है। मुझे उम्मीद है कि कोरोना वायरस भी होली में जल जाएगा। जनता से मैं सिर्फ यह कहूंगा कि अगले 8- 10 दिन सावधानी बरतने की जरूरत है। होली के मौके पर  लोगों को ज्यादा भीड़भाड़ करने से बचना चाहिए।

चीनी रंग और पिचकारी पर पाबंदी की मांग
भाजपा के नीतेश राणे ने पॉइंट ऑफ इंफर्मेशन के तहत कोरोना के बढ़ते मामलों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि एन 95 मास्क 50 रुपए की जगह 300- 400 रुपए में बिक रहे हैं।  उन्होंने कहा कि होली में बड़े पैमाने पर चीन से रंग लाए जाते हैं। कोरोना के खतरे को देखते हुए सरकार को चीनी रंगों पर पाबंदी लगानी चाहिए।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget