घर से वंचित नहीं रहेगा एक भी मिल मजदूर: मुख्यमंत्री

Uddhav Thakare
मुंबई
संयुक्त महाराष्ट्र की लड़ाई में मिल मजदूरों का बड़ा योगदान है। ऐसे में प्रत्येक मिल मजदूर को घर देने के लिए सरकार कटिबद्ध है और एक भी मिल मजदूर घर से वंचित नहीं रहेगा, यह वादा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मिल मजदूरों से किया। साथ ही उन्होंने मिल मजदूरों से उन्हें मिला मकान किसी अन्य को न बेचने और मुंबई के बाहर न जाने का  आव्हान भी किया है। मुंबई गृह निर्माण एवं क्षेत्र विकास मंडल की ओर से चौथे चरण के अंतर्गत मिल मजदूर और उनके वारिसों के लिए मुंबई के मध्यवर्ती क्षेत्र के बांबे डाईंग,  स्प्रिंग मिल और श्रीनिवास मिल की जगह पर बनाए गए 3 हजार 894 मकानों की लॉटरी रविवार को बांद्रा स्थित हाडा मुख्यालय में मुख्यमंत्री ठाकरे की उपस्थिति में और मजदूर  नेता दत्ता इस्वलकर के हाथों निकाली गई।
इस दौरान गृह निर्माण मंत्री जितेंद्र आव्हाड, महापौर किशोरी पेडणेकर, सभापति विनोद घोसालकर, झोपडपट्टी पुनर्वसन के सभापति विजय नाहटा, म्हाडा के उपाध्यक्ष मिलिंद हैसकर,  पूर्व राज्यमंत्री सचिन अहिर आदि उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि आज मैं भाषण नहीं करूंगा, बल्कि परिवार के एक प्रमुख के रूप में आप से संवाद साध रहा हूं। मुझ पर  मिल मजदूरों को ऋण है और इसे व्यक्त करने के लिए आज यहां पर आया हूं। उन्होंने कहा कि मकान मिलने के बाद मुझे अपने घर में चाय पिलाने के लिए जरूर बुलाइए, अपने  घर में खुशी से रहें, घर न बेचे और मुंबई में रहने के अधिकार को भी न खोए।

किफायती दरों में मकान दिए जाएंगे: गृहनिर्माण मंत्री

इस दौरान गृह निर्माण मंत्री जितेंद्र आव्हाड ने कहा कि मुंबई पालिका क्षेत्र की बंद पड़ी हुई मिलों के मजदूरों को मकान देना सरकार का नीतिगत निर्णय है। भविष्य में अधिक से  अधिक किफायती दरों में तथा किफायती मकान मुंबई में उपलब्ध कराए जाएंगे। कोई भी घर से वंचित नहीं रहेगा। झोपड़पट्टीवासियों, मिल मजदूरों का सपना पूरा करने के लिए यह  सरकार कटिबद्ध है। भविष्य में पुलिस, सरकारी चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों के लिए भी 10 फीसदी मकानों का समावेश होगा। महापौर किशोरी पेडणेकर ने कहा कि अब दुख के दिन  खत्म हो गए है और सुख के दिन आए है। अंतिम मिल मजदूरों को न्याय भी दिया जाएगा। इस अवसर पर जानकारी में बताया गया है कि मुंबई मंडल की ओर से वडाला स्थित  बांबे डाईंग मिल गृहप्रकल्प के अंतर्गत 720 क्लैट, स्प्रिंग मिल स्थित 2630 क्लैट और लोअर परेल स्थित श्रीनिवास मिल के जगह पर 544 क्लैट हैं। ये क्लैट मुंबई के सबसे अच्छी  जगह पर है और 225 वर्ग फुट के वन बीएचके मकान अत्याधुनिक सुविधाओं युक्त है और आधुनिक समय की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए वडाला स्थित बांबे डाईंग मिल  गृह प्रकल्प के जगह पर 15 मंजिली पार्किंग टॅावर का निर्माण किया गया है। इसके लिए कुल 1 लाख 74 हजार 36 आवेदन मिल मजदूर एवं उनके वारिसों की ओर से प्राप्त हुए है।

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget