ठाणे मनपा स्वास्थ्य विभाग की कोरोना वायरस से निपटने की तैयारी

ठाणे
 विश्व में कोरोना वायरस से करीब तीन हजार 287 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 95 हजार 485 से अधिक लोग इसके शिकार हो चुके हैं। तेजी से फैलते इस जानलेवा बीमारी से बचाव के  ए ठाणे नपा प्रशासन सतर्क हो गया है। गुरुवार को महापौर नरेश म्हस्के ने अधिकारियों की बैठक बुलाई। बैठक में कोरोना वायरस को लेकर बरती जा रही सावधानियों और उपाय योजनाओं के  रे में समुचित जानकारी । बैठक में बताया गया कि ठाणे में रहने वाले जो लोग विदेशों से लौट हे हैं, उनके बारे में एयरपोर्ट अथॉरिटी से विस्तृत जानकारी ली जा रही है। इसके साथ ही उन्हें मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल में भेजा जा रहा है। 
साथ ही उनका 14 दिनों तक चिकित्सकीय निगरानी में रखा जा रहा है। बैठक में बताया गया कि ठाणे में ऐसे 11 लोग मिले, जिनकी जांच प्रक्रिया पूरी कर ली गई है और वे सुरक्षित हैं। इनमें से कोरोना वायरस की संदिग्ध एक महिला पुणे से आई थी, जिसके रक्त के नमूने को जांच के लिए भेज गया था। फिलहाल उसका रिपोर्ट  टिव आया है। गुरुवार को मनपा मुख्यालय  महापौर कार्यालय में आयोजित बैठक में महापौर म्हस्के के साथ स्थ्य अधिकारी डॉ. अनिरुद्ध मालगांवकर, स्वास्थ्य अधीक्षक डॉ. प्रकाश सोनालीकर और कलवा स्थित छात्रपति शिवजी महाराज अस्पताल के अधिष्ठाता डॉ. शैलेश्वर नटराजन आदि उपस्थित थे। बैठक से पहले महापौर म्हस्के ने प्रभारी आयुक्त राजेंद्र अहिवर से कोरोना वायरस   बंधित किए गए उपाय योजनाओं के बारे में चर्चा की। इसके बाद बैठक में उन्होंने तत्काल समुचित उपाय योजनाएं करने का आदेश देते हुए नागरिकों से न घबराने का आवाहन भी किया।  खनीय  कि इटली, ईरान, थाईलैंड, साउथ कोरिया, मलेशिया आदि देशों से भारतीय नागरिक स्वदेश आते रहते हैं। ऐसे में कोरोना वायरस के प्रसार का अधिक खतरा बन गया है।
 वहीं सुरक्षा की दृष्टि से  बई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर प्रतिदिन विदेशोंसे लौटने वाले लोगों की स्क्रीनिंग की जा रही है, जिस पर राज्य सरकार का स्वास्थ्य विभाग नजर बनाए हुए है। मनपा भी स्वास्थ्य विभाग के संपर्क में है। मनपा में स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मालगांवकर ने कहा कि यात्रियों से मुलाकात कर उनकी जांच की जा रही है। सके साथ ही 14 दिनों तक उनसे संपर्क साधा जा रहा है। मनपा क्षेत्र    ना वायरस के संदिग्ध मिलने पर उन्हें कलवा स्थित त्रपति शिवजी महाराज अस्पताल में अलग से बनाए गए आइसोलेशन  र्ड में चिकित्सकीय निगरानी में रखा जाएगा। इस वार्ड में उपचार करने
वाले डॉक्टरों के लिए डेढ़ हजार एन 95 और डेढ़ लाख सर्जिकल मास्क का प्रबंध किया गया है। मनपा अस्पतालों और स्वास्थ्य केंद्रों में समुचित दवाइयों का भंडारण किया गया है।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget