मांझी के बाद राष्ट्रीय लोक समता पार्टी बोली-अहंकार छोड़े आरजेडी

पटना
बिहार में आगामी छह महीने बाद विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। जाहिर है सभी राजनीतिक दल और गठबंधन अपनी-अपनी तैयारियों में लगी हैं। एक ओर सीएम नीतीश कुमार के  नेतृत्व में बिहार एनडीए जहां एकजुट नजर आ रहा है, वहीं महागठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं दिख रहा है। हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा, विकासशील इंसान पार्टी और राष्ट्रीय लोक  समता पार्टी जैसी छोटी पार्टियों ने आरजेडी पर दबाव बढ़ाते हुए दो टूक कहा है कि जितना जल्दी हो सके को- ऑर्डिनेशन कमिटी बनाई जाए वरना ये पार्टियां मार्च के अंत तक  अलग रास्ता अक्तियार कर सकती हैं। वहीं, आरजेडी ने दो टूक कह दिया है कि आरजेडी के बिना इन पार्टियों का कोई खास महत्व नहीं है। इस बीच कांग्रेस सामंजस्य बनाने की  बात कह रही है। महागठबंधन में मची खींचतान के बीच बिहार एनडीए के नेता बेहद खुश नजर आ रहे हैं। जेडीयू के प्रधान महासचिव के सी त्यागी ने कहा कि हमारे एनडीए के मुकाबले महागठबंधन में समन्वय नहीं है। आरजेडी का स्वभाव है- खाओ और खाने मत दो। इसी के चलते जनता दल में आधा दर्जन बार फूट हुई। आरजेडी अकेले ही संपूर्ण सत्ता  चाहती है, लिहाजा यह गठबंधन नहीं चलेगा। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के चलते पिछली बार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली 40 सीटें मिली थीं, जबकि लालू यादव 20 से  ज्यादा सीट कांग्रेस को देने के पक्ष में नहीं थे।
महागठबंधन में जारी आपसी खींचतान पर भाजपा ने तंज कसते हुए कहा कि महागठबंधन सिर्फ कहने भर का है, आपस मे कहीं कोई समंजस्य नहीं है। भाजपा विधायक संजीव  चौरसिया ने बात करते हुए जीतन राम मांझी के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने को-ऑर्डिनेशन कमिटी बनाने की मांग की है और मार्च आखिरी तक कोई बड़ा निर्णय  लेने की बात कही है। इस बीच, आज तक सब कुछ ठीक होने का दावा करने वाली राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने भी सक्त रुख अपना लिया है। पार्टी के प्रधान महासचिव माधव  आनंद ने कहा कि कुछ लोग चाहते हैं कि तेजस्वी यादव सीधा मुख्यमंत्री बन जाएं, लेकिन जब सभी लोग मिलेंगे तभी मुख्यमंत्री बन पाएंगे, नहीं तो किस्मत के धनी नीतीश कुमार  फिर बनेंगे मुख्यमंत्री। माधव आनंद ने कहा कि अगर समन्वय समिति नहीं बनानी है, तो आप बोल दीजिए नहीं बनाएंगे आप लोग अपना रास्ता देखिए। हालांकि, माधव आनंद ने  अभी भी आस नहीं छोड़ी है। उन्होंने कहा कि आरजेडी को अहंकार त्यागना होगा। उम्मीद है कि आरजेडी बनाएगी कमेटी। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा कि  इसमें किसी कोई तकलीफ़ नहीं है कि समन्वय समिति बने, लेकिन इस सवाल का जवाब आरजेडी के लोग देंगे।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget