आरटीई के तहत 5 हजार से अधिक बच्चों का स्कूल प्रवेश

Education
मुंबई
गरीब बच्चों को अच्छे स्कूलों में मुक्त शिक्षा और प्रवेश को लेकर बनाए गए आरटीई कानून के तहत 5 हजार 371 बच्चों को विभिन्न स्कूलों में प्रवेश मिला है। निजी स्कूलों में  आरटीई के तहत लॉटरी निकालकर प्रवेश प्रक्रिया को पूरा किया जाता है।
बता दें कि मुंबई के निजी स्कूलों में गरीब बच्चों को शिक्षा देने के लिए स्कूलों की कुल सीट का 25 प्रतिशत आरक्षण रखा जाता है। इन स्कूलों में प्रवेश पाने के लिए मार्च महीने से  कार्रवाई शुरू की गई थी। वर्ष 2021 शैक्षिणक प्रवेश के लिए फरवरी महीने में ही अभिभावकों से फॉर्म भरने कहा गया था। पहली कक्षा में दिए जाने वाली इस प्रवेश प्रकिया में इस  साल ऑानलाइन कुल 14 हजार 135 लोगों ने फार्म भरा था, जिसकी लॉटरी 17 मार्च को निकाली गई थी। जिसमें कुल 5 हजार 371 बच्चों को प्रवेश मिला था, जबकि 3 हजार 421  बच्चे वेटिंग लिस्ट में थे। प्रवेश प्रकिया में कुल प्रवेश पाए 5 हजार 371 बच्चों में 4 हजार 53 बच्चों का प्रवेश महाराष्ट्र बोर्ड के स्कूलों में मिला, जबकि 1 हजार 318 बच्चों को  सीबीएससी सहित अन्य बोर्ड के स्कूलों में प्रवेश मिला। अभिभावकों को बच्चों के प्रवेश की जानकारी मैसेज के द्वारा दी गई थी। मार्च महीने में ही लॉकडाउन लागू हो जाने के कारण बच्चों की प्रवेश प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी। लॉटरी में पात्र हुए बच्चों के लिए अब 15 जून से दोबारा प्रवेश प्रक्रिया शुरू की गई है। जिन बच्चों को ऑनलाइन प्रवेश मिला है, उनके  कागजातों की जांच समिति के पास जाकर जांच कराना संभव नहीं हो पाएगा, जिसके चलते इस साल स्कूलों को ही बच्चों के कागजात जांचने की जिम्मेदारी दी गई है। कोरोना  महामारी के बीच बड़ी संख्या में अभिभावक अपने मूल गांव चले गए है।
अभिभावकों को स्कूल में प्रवेश की जानकारी फोन के माध्यम से देकर उन्हें कागजात जमा करने के लिए कहा जाए। फिलहाल स्कूलों में बच्चो की पढ़ाई ऑनलाइन शुरू की गई है।  बच्चों को स्कूल में प्रवेश के लिए अभिभावक को तीन बार समय दिया जाएगा।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget