निर्मला सीतारमण ने आत्म-निर्भरता पर दिया जोर

गणेश मूर्ति भी चीन से क्यों खरीदी जाए

Nirmala Sitharaman
नई दिल्ली
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमणने गुरुवार को कहा कि विकास कोबढ़ावा देने के लिए आयात करने मेंकुछ भी गलत नहीं है। मगर, उन्होंनेसवाल किया कि गणेश की मूर्तियों कोभी चीन से क्यों खरीदा जाए। भाजपाकी तमिलनाडु इकाई के कार्यकर्ताओंको एक वर्चुअल लिंक के माध्यम सेसंबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि देशमें उपलब्ध नहीं होने वाले कच्चे मालका आयात करना और हमारे उद्योगों केलिए जरूरी चीजों को मंगवाना गलतनहीं है।दरअसल, 15 जून को चीनी सेना नेजिस तरह से धोखे के बाद भारतीय सैनिकों पर हमला किया और भारतीयभूमि पर जिस तरह वह छल से एकबार फिर कब्जा करना चाहता है,उसका मुंहतोड़ जवाब सीमा पर चीनको दे दिया गया है। अब बारी देश को आत्मनिर्भर बनाकर चीन से आयातहोने वाले समान को सीमित करने कीहै। केंद्र सरकार के आत्म-निर्भर अभियान पहल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि आयात में कुछ भीगलत नहीं है, जो उत्पादन को बढ़ावा देऔर रोजगार के अवसर पैदा करे औरयह निश्चित रूप से किया जा सकता है।हालांकि, ऐसा आयात जो रोजगार केअवसरों और वृद्धि जैसे लाभ नहीं करसकता है, वह आत्मनिर्भरता औरभारतीय अर्थव्यवस्था को भी मदद नहींपहुंचाएगा। उन्होंने कहा कि हर सालगणेश चतुर्थी उत्सव के दौरान पहलेस्थानीय कुम्हारों से मिट्टी से बनी गणेशकी मूर्तियां खरीदी जाती थीं। मगर,आज चीन से भी गणेश की मूर्तियांक्यों आयात की जाती हैं... इस तरहकी स्थिति में... क्या हम मिट्टी से गणेशकी मूर्ति नहीं बना सकते हैं, यह क्या स्थिति है?निर्मला सीतारमण ने आश्चर्य जताया कि पूजा-अर्चना के लिए इस्तेमाल होनेवाली अगरबत्तियां, घरेलू उत्पाद जैसे साबुन-बॉक्स, प्लास्टिक की वस्तुओं,जिनका इस्तेमाल हर रोज किया जाताहै उनका आयात क्यों करना। खासतौरपर तब जब भारतीय उत्पाद औरमाइक्रो, स्मॉल और मीडियमएंटरप्राइजेज द्वारा इस तरह के उत्पादस्थानीय स्तर पर बनाए जाते हैं। उन्होंनेकहा कि स्थानीय रूप से उपलब्धचीजों को आयात करने की ऐसी स्थितिमें बदलाव होना चाहिए औरआत्मनिर्भर अभियान के पीछे का मूलविचार आत्मनिर्भरता है।उन्होंने कहा कि भारत में लंबे समयतक आत्मनिर्भरता का चलन था,लेकिन यह बाद में फीका पड़ गया औरअब अभियन पहल स्थानीय विनिर्माणके लिए खड़ी हुई। आत्मनिर्भर भारतअभियान का मतलब यह नहीं है कि आयात बिल्कुल नहीं किया जानाचाहिए। यहां औद्योगिक विकास औररोजगार के अवसरों के सृजन के लिएआपको जो भी आयात करने कीजरूरत हो, उसे विदेशों से खरीद सकते हैं। तमिल में अपने भाषण में, उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मोदी अय्या(सर) कहा, और पिछले एक साल मेंकेंद्र में उनकी पार्टी की सत्ता में लौटनेके बाद सरकार की उपलब्धियों के बारेमें बताया। उन्होंने 15 जून को लद्दाखमें चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में शहीद हुए 20 सैनिकों में तमिलनाडु के हवलदार के पलानी की वीरता की प्रशंसा की।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget