मुंबई को मिला एक हजार बेड का एक और अस्पताल

मुंबई
कोरोना मरीजों के इलाज को लेकर मनपा को एक हजार बेड का एक और अस्पताल मिल गया। भायखला स्थित रिचर्डसन एवं कुडास में बने अस्थाई अस्पताल का सोमवार को महापौर किशोरी पेंडेकर और मुंबई के पालक मंत्री असलम शेख ने उद्घाटन किया और मनपा को सौपा। बता दें कि कोरोना महामारी फैलने के बाद मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते  हुए अस्थाई अस्पताल बनाने की योजना बनाई गई। इसी कड़ी में सोमवार को भायखला स्थित रिचर्ड्सन एवं कुडास कंपनी में बनाया गया एक हजार बेड का अस्पताल मनपा को  सौंपा गया। मुंबई में कई जगहों पर एक छत के नीचे मरीजों को इलाज की सुविधा मिले, इसके लिए अस्थाई अस्पताल बनाने का निर्णय लिया गया। कोरोना मरीजों के ईलाज में  सबसे महत्वपूर्ण ऑक्सीजन की आवश्यकता को देखते हुए इस अस्पताल में ऑक्सीजन की भी व्यवस्था की गई। एक हजार बेड के इस अस्पताल में 300 बेड ऑक्सीजन युक्त है।   यहां 50 डॉक्टर, 100 नर्स, 150 वार्ड बॉय एवं अन्य मेडिकल कर्मचारी मिलाकर कुल 300 कर्मचारी 24 घंटे मरीजो की देखभाल में रहेंगे। इसके अलावा मरीजों को लाने ले जाने के  लिए एब्बुलेंस की भी सुविधा उपलब्ध कराई गई है। इस अस्पताल को बनाए जाने की शुरुआत 10 जून को हुई थी। रात-दिन कर्मचारियों ने मेहनत कर मात्र 12 दिन में अस्पताल  को बनाकर खड़ा कर दिया।

कंटेनर में शुरू हुआ आईसीयू सेंटर
वर्ली स्थित एनएससीआई में कोरोना मरीजों के इलाज को लेकर बनाए गए अस्थाई अस्पताल में एक कंटेनर में 2 बेड के आईसीयू की सुविधा उपलब्ध कराई गई। इस तरह फिलहाल  वहां 5 कंटेनर में कुल 10 आईसीयू बेड उपलब्ध है। अगले एक सप्ताह में कंटेनर की संख्या बढ़ाकर 10 कर दी जाएगी और 20 आईसीयू बेड उपलब्ध रहेंगे। कंटेनर में बने आईसीयू  सेंटर का राज्य के पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने उद्घाटन किया।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget