शरद पवार ने दिखाया राहुल को आईना

बात करते वक्त हमें याद रखना चाहिए इतिहास

मुंबई
पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ तनाव को लेकर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी केंद्र सरकार पर हमलावर हैं। लद्दाख में चीनी सैनिकों की घुसपैठ को लेकर राहुल ने शुक्रवार को भी कहा कि  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बारे में सच बोलें और अपनी जमीन वापस लेने के लिए कार्रवाई करें तो पूरा देश उनके साथ खड़ा होगा। हालांकि अब इस पर उन्हीं के सहयोगी दल राकांपा  के प्रमुख शरद पवार ने उनको आईना दिखाया है।
चीन को लेकर लगातार दिए जा रहे राहुल के बयानों पर शरद पवार ने कहा कि हम नहीं भूल सकते कि 1962 में क्या हुआ था। चीन ने हमारी 45 हजार स्क्वेयर किमी जमीन पर  कब्जा कर लिया था। वर्तमान में मुझे नहीं पता कि चीन ने जमीन ली है या नहीं, मगर इस पर बात करते वक्त हमें इतिहास याद रखना चाहिए। राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर राजनीति  नहीं करनी चाहिए। पवार ने कहा कि युद्ध की कोई आशंका नहीं दिखती। पीवी नरसिम्हा राव सरकार के दौरान रक्षा मंत्री रहे शरद पवार ने कहा कि मुझे अभी युद्ध की कोई आशंका  नहीं दिखती है।
हालांकि चीन ने जाहिर तौर पर हिमाकत तो की है। गलवान में भारतीय सेना ने जो भी निर्माण कार्य किया है, वह अपनी सीमा में किया है। 15 जून को गलवान घाटी में हुए खूनी  संघर्ष के बाद भारत लद्दाख में अपनी सैन्य ताकत लगातार बढ़ा रहा है। गुरुवार को भी लद्दाख के आसमान में भारतीय वायु सेना के फाइटर जेट उड़ान भरते दिखे। लेह स्थित मिलिट्री  बेस से बीते तीन दिनों में कई भारतीय जेट ने उड़ान भरी और 240 किलोमीटर दूर स्थित सीमा रेखा तक दौरा किया है। एलएसी के विवादित इलाकों में हड्डियां गलाने वाली ठंड है।  ऐसे में वहां चीनी सेना को जवाब देने के लिए ऐसी टीमों की तैनाती की गई है, जिन्हें उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में लड़ने की ट्रेनिंग मिली हुई है। सेना और आईटीबीपी की इन घातक टीमों  को फॉरवर्ड लोकेशंस पर भेजा जा चुका है। लेह में रहने वाले भारतीय सेना के रिटायर्ड कैप्टन ताशी छेपाल ने कहा कि मैंने अपने जीवनकाल में लेह में ऐसी सैन्य मौजूदगी पहले  कभी नहीं देखी है। भारतीय सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इलाके में अब हमारी सैन्य मौजूदगी पर्याप्त मात्रा में है। हाल ही में वायुसेना में शामिल हुए अत्याधुनिक  चिनूक और अपाचे हेलिकॉप्टर भी लद्दाख के आसमान में दिखाई दिए। बुधवार को लद्दाख एयरबेस से चिनूक हेलिकॉप्टर ने उड़ान भरी थी। चीन से तनाव के बीच लेह जाने वाले कई  रास्तों पर मिलिट्री चेकपोस्ट बनाए गए हैं।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget