इंडिगो में 10 फीसदी छंटनी

नई दिल्ली
कोरोना महामारी के कारण गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रही देश की सबसे बड़ी विमानन कंपनी इंडिगो ने अपने 10 फीसदी कर्मचारियों को निकालने का फैसला किया है। कंपनी के सीईओ रणजय दत्ता ने एक बयान में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कंपनी इस समय गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रही है और अपना कारोबार जारी रखने के लिए उसे कुछ त्याग करना होगा। उन्होंने कहा कि सभी संभावित परिस्थितियों पर विचार करने के बाद यह साफ है कि हमें अपने 10 फीसदी कर्मचारियों को निकालना होगा।
इंडिगो के सीईओ ने कहा कि यह पहला मौका है जब कंपनी को ऐसा मुश्किल कदम उठाना पड़ रहा है। 31 मार्च, 2019 तक कंपनी के कुल 23,531 कर्मचारी थे। कोरोना महामारी और इससे जुड़े लॉकडाउन के कारण एविएशन सेक्टर बुरी तरह प्रभावित हुआ है। देश में करीब दो महीने तक उड़ानों का संचालन पूरी तरह बंद रहा। हालांकि 25 मई से सीमित संख्या में घरेलू उड़ानों की अनुमति दे दी गई। लेकिन इसे पूरी तरह पटरी पर लौटने में अभी लंबा समय लगेगा। इंडिगो ने एक ऐसी योजना शुरू की है जिसके तहत जो लोग कोरोना वायरस महामारी के बीच अतिरिक्त सुरक्षा सुनिश्चित करना चाहते हैं, वे एक यात्री के लिए दो सीटें बुक करा सकते हैं।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget