पांच हजार का इंजेक्शन 30 हजार में

मुंबई
कोरोना महामारी में मददगार साबित होने वाली रेमेडीसीवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी के मामले में मुंबई क्राइम ब्रांच और एफडीए के विजलेंस डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने एक साझा ऑपरेशन में सात लोगों को गिरफ्तार किया है। ये गिरफ्तारी मुंबई के मुलुंड और भांडुप इलाके से की गई है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, ये सभी आरोपी मेडिकल फील्ड से जुड़े हुए थे। पकड़े गए आरोपियों में कोई पेशे से मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव का काम करता था, तो कोई मेडिकल फील्ड में ही मार्केटिंग के साथ जुड़ा हुआ था। एफडीए के अधिकारियों के अनुसार उन्होंने इन सभी आरोपियों को ट्रैप बिछाकर पकड़ा है।
रेमेडीसीवीर इंजेक्शन की अगर बाजार मूल्य की बात करें तो ये बाजार में 5,500 रुपए तक उपलब्ध है, लेकिन ये सभी आरोपी एक इंजेक्शन को 30 से 40 हजार की ऊंची कीमत पर बेच रहे थे।
पुलिस के मुताबिक, जांच अभी शुरुआती दौर में है और आने वाले कुछ दिनों में पुलिस को शक है कि इस केस को लेकर कई और बड़े खुलासे हो सकते हैं।
फिलहाल पुलिस सभी आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

60 हजार शीशियां खरीदेगी सरकार
रेमेडीसीवीर की कालाबाजारी पर अंकुश लगाने के लिए राज्य सरकार ने इस जीवन रक्षक दवा की 60 हजार शीशियों के लिए आदेश दिए हैं। महाराष्ट्र सरकार 3,392.48 रुपए प्रति शीशी रेमेडीसीवीर पर खर्च करेगी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के निर्देशों के बाद चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान निदेशालय (डीएमईआर) ने यह आर्डर दिया है। डीएमआरसी ने 30,870 रुपए में टोसीलिज़ुमाब की 20 हजार शीशियों और फेविपिरविर के छह लाख टैबलेट 58 रुपए प्रति टैबलेट या 1999.20 रुपए में पूरी स्ट्रिप दी है। डीएमईआर के प्रमुख डॉ टीपी लहाणे ने कहा कि हम अगले छह महीनों के लिए इनकी बुकिंग कर रहे हैं और यह रेट्स एक वर्ष के लिए मान्य होंगे। इससे कालाबाजारी समाप्त हो जाएगी और लोगों को सस्ती दरों पर जीवन रक्षक दवाएं मिलेंगी। करीब 20 करोड़ रुपए मूल्य की इन दवाओं की आपूर्ति राज्य संचालित कोविड-19 अस्पतालों को की जाएगी। हम सबसे पहले राज्य में चलने वाले कोविड-19 अस्पतालों के लिए इन दवाओं को खरीदने जा रहे हैं। हमने पहले ही राज्य सरकार द्वारा नामित अन्य सार्वजनिक और निजी कोविड-19 अस्पतालों को हमारे द्वारा तय दरों पर दवा खरीदने के लिए आदेश जारी कर दिए हैं। इससे पहले, महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा था कि राज्य सरकार सभी को रेमेडीसीवीर और फेविपिरविर दवा प्रदान करेगी। टोपे ने कहा था कि आने वाले दो दिनों में रेमेडीसीवीर और फेविपिरविर दोनों दवाएं सभी जिलों में उपलब्ध होंगी।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget