बारिश-बाढ़ से तराई में हाहाकार

लखनऊ
तराई के जिलों में बाढ़ और बारिश के चलते लगातार हालात खराब हो रहे है। मंगलवार रात बाराबंकी के ग्राम बांसा में कच्ची छत गिरने से महिला की मौत हो गई। नदियों में उफान के चलते तराई के जिलों में कटान तेज है। बाराबंकी में सरयू नदी का जलस्तर फिर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है। लखीमपुर में शारदा नदी का जलस्तर खतरे के निशान के करीब है। वहीं, बहराइच में घाघरा और सरयू का जलस्तर बढऩे से तटवर्ती गांवों में भूमि का कटान तेज हो गया है। तीन मकान और 50 बीघा खेत धारा में समाहित हो गए है।
बलरामपुर जिले के उतरौला तहसील क्षेत्र में राप्ती नदी की कटान जारी है। नदी के मुहाने पर बसे कई गांव के किसानों की सैकड़ों बीघे जमीन नदी में समा गई है। ग्रामीणों के आशियाने, मस्जिद व मदरसा कटान की जद में आ गए हैं। आंबेडकरनगर में झमाझम बारिश हुई। घाघरा व तमसा में उफान देखकर तटीय क्षेत्रों में दहशत का माहौल है। आलापुर और टांडा तहसील क्षेत्र के गांवों में इन दिनों नदी तेजी से कटान कर रही है।
गोंडा में बारिश का असर नदियों के जलस्तर पर भी पड़ा है। बाढ़ कार्य खंड के अनुसार एल्गिन ब्रिज पर घाघरा नदी का जलस्तर खतरे के निशान से 31 सेंटीमीटर ऊपर पहुंच गया है। रायबरेली में रुक रुककर बारिश हो रही है। सीतापुर में बारिश से मौसम खुशगवार हो गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में बारिश के चलते बिजली कटौती की भी समस्या बनी रही।

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget